Land disputes will be solved on spot in Gorakhpur - तारीख न ही पंचायत, फैसला आन द स्पॉट DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तारीख न ही पंचायत, फैसला आन द स्पॉट

तारीख न ही पंचायत, फैसला आन द स्पॉट

जमीन विवाद को लेकर तारीख और न ही पंचायत। फैसला ऑन द स्पॉट। इस व्यवस्था से जमीन विवाद से राहत दिलाने के लिए श्रावस्ती मॉडल पर चलाया जा रहा अभियान असर दिखाने लगा है। 16 अप्रैल से शुरू हुए अभियान में सभी सातो तहसील के 24 गांव के 54 मामले मौके पर ही निपटा दिए गए। इस दौरान करीब 21 एकड़ जमीन को कब्जे से मुक्त करा लिया गया।

जिलाधिकारी के. विजयेन्द्र पाण्डियन ने बताया कि 16 जून तक यह अभियान चलाया जाएगा। इसमें जितने भी गांव में जमीन के विवाद हैं उन्हें पुलिस और प्रशासन की टीम मौके पर पहुंच कर निपटाएगी। इसमें वह मामले नहीं शामिल किए गए हैं जो दीवानी न्यायालय में लम्बित चल रहे हैं। उन्होंने बताया कि उनका लक्ष्य है कि जिला प्रशासन के पास जितने भी जमीन से जुड़े मुकदमें लम्बित है उसे 16 जून के पहले निस्तारित कर दिया जाए।

जिलाधिकारी के विजयेंद्र पांडियन ने इसे पूरी तहर प्रभावी बनाने के लिए अभियान की दो बार समीक्षा कर चुके हैं। उन्होंने इस अभियान से जुड़े सभी अधिकारियों को हिदायत दी है कि निस्तारण के बाद गांव में किसी प्रकार का भूमि से संबंधित विवाद बाकी नहीं रहना चाहिए।

जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि एसडीएम, पुलिस क्षेत्राधिकारी, तहसीलदार, थानाध्यक्ष तथा नायब तहसीलदार, इंस्पेक्टर के साथ गांव में टीम बनाकर विवाद का निस्तारण कर रहे हैं। यह टीम व्यक्तिगत मामलों को देखने के साथ ही यह भी देखेगी कि सरकारी भवन, स्कूल, ग्राम पंचायत, आंगनबाड़ी भवन, नलकूप, आदि पर किसी प्रकार का कब्जा या अतिक्रमण न हो। निस्तारण की सूचना अभियान के नोडल अधिकारी, सीआरओ को भेजना भी सुनिश्चित करेंगे। ताकि उसे पोर्टल पर फीड किया जा सके। भूमि विवाद न होने की दशा में संबंधित लेखपाल लिखित प्रमाण पत्र उपलब्ध कराएंगे।

इन तरह के विवाद हैं शामिल

जमीन पैमाइश

भूमि-जमीन, खलिहान पर अवैध कब्जा

सरकारी भवन पर कब्जा

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Land disputes will be solved on spot in Gorakhpur