DA Image
Monday, December 6, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश गोरखपुरनए इकोनॉमी कोच के साथ रवाना हुई कोचूवेली स्पेशल

नए इकोनॉमी कोच के साथ रवाना हुई कोचूवेली स्पेशल

हिन्दुस्तान टीम,गोरखपुरNewswrap
Mon, 01 Nov 2021 03:32 AM
नए इकोनॉमी कोच के साथ रवाना हुई कोचूवेली स्पेशल

गोरखपुर। वरिष्ठ संवाददाता

गोरखपुर से बनकर चलने वाली कोचीन स्पेशल रविवार को थर्ड एसी इकोनॉमी कोच के साथ सुबह साढ़े छह बजे रवाना हो गई। कोचूवेली स्पेशल इकोनॉमी कोच के साथ गोरखपुर से रवाना होनी वाली पहली ट्रेन है। यात्री यशवंतपुर, मद्रास, त्रिवेंद्रम और सिकंदराबाद तक की यात्रा अतिरिक्त सुविधाओं और सुरक्षा के साथ अधिकतम 105 रुपये के फायदे के साथ कर सकते हैं। दूरी बढ़ने के साथ किराया कम होता जाएगा। पहले दिन इस कोच में 66 यात्रियों ने यात्रा शुरू की, जबकि इसी ट्रेन में इकोनॉमी कोच में चार नवम्बर के लिए लगभग 70 फीसदी सीटें बुक हो चुकी हैं।

दरअसल, इकोनामी एसी कोचों में यात्रा सुगम तो होगी ही रेलवे को भी एक कोच में अतिरिक्त 11 बर्थ का फायदा मिलेगा। अति आधुनिक इकोनॉमी एसी कोच में 72 की जगह 83 बर्थ की व्यवस्था है। कोच पूरी तरह फायरप्रूफ (अग्निरोधी) बने हैं। दरवाजे चौड़े हैं। दिव्यांग यात्रियों के लिए रैंप है। सीटें आरामदायक हैं। सभी बर्थों पर लैपटाप व मोबाइल चार्जर प्वाइंट की व्यवस्था है। सुरक्षा के लिए सीसी कैमरे लगाए गए हैं। कोच को जर्मन तकनीक वाले एलएचबी प्लेटफार्म पर विकसित किया गया है। यह भारतीय रेल के कंवेंशनल कोच के मुकाबले दो मीटर ज्यादा लंबा होता है। आने वाले दिनों पूर्वोत्तर रेलवे की अन्य प्रमुख ट्रेनों में भी इकोनॉमी एसी कोच लगाए जाएंगे। प्रथम चरण में 20 कोच मिले हैं।

टिकट पर 3-ई और कोच पर एम अंकित होगा

रेलवे बोर्ड से जारी एक निर्देश के मुताबिक एसी-3 एंट्री लेवल के एसी कोच के लिए एसी इकोनॉमी क्लास बनाया गया है। टिकट में इस क्लास का नाम ‘3ई प्रिंट किया जाएगा। ट्रेन के डिब्बों के बाहर इस क्लास को ‘एम के रूप में प्रदर्शित किया जाएगा।

कोच की अन्य विशेषताएं

इस कोच को भारतीय रेलवे के रेल कोच फैक्ट्री आरसीएफ कपूरथला के इंजीनियरों ने विकसित किया है। वहां प्रोटोटाइप कोच बनाने के बाद इसका परीक्षण किया गया। परीक्षण में सफल होने के बाद इसके 200 से ज्यादा कोच बना भी लिए गए हैं। इसमें फोल्डेबल स्नैक्स टेबल, वॉटर बोतल, मैगजीन और मोबाइल फोन रखने की जगह भी बनाई गई है। रीडिंग लाइट्स, मोबाइल चार्जिंग प्वाइंट और स्टैंडर्ड सॉकेट भी हर बर्थ के साथ लगाया गया है।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें