DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गोरखपुरियों को ठण्ड से राहत दिलायेगी जैसलमेरी चादरें

गोरखपुरियों को ठण्ड से राहत दिलायेगी जैसलमेरी चादरें

पारा लुढ़कने के साथ ही शहर में गर्म कपड़ों का बाजार परवान चढ़ रहा है। पिछले वर्ष की ठंड को देखते हुए इस बार पहले ही लोग गर्म कपड़ों की खरीदारी कर रहे हैं। ठंड को देखते हुए गांधी आश्रम ने एक खास तरह की चादर मंगाई है जिसकी मांग इस समय सबसे ज्यादा है। लोग कम्बल के बजाय इस चादर को ज्यादा तवज्जों दे रहें हैं। पिछले वर्ष प्रदेश में सबसे अधिक ठण्ड पड़ने के कारण इस बार शहर के लोग पहले ही चौकन्ने हो गए हैं।

श्री गांधी आश्रम में इस बार जैसलमेरी चादरों की धूम है। रोजाना चार से पांच चादरें बिक रहीं हैं। स्टॉक में पहले से ही चादरें मंगा कर रख ली गई हैं जिससे मांग बढ़ने पर आपूर्ति की जा सके। जैसलमेरी चादरें अलग-अलग रंगों व वेरायटी में उपलब्ध हैं। यह चादरें शहर में पहली बार आईं हैं। गॉधी आश्रम गोलघर के व्यस्थापक अभिमन्यु सिंह का कहना है कि जैसलमेर से आईं ग्राहकों में यह चादरें सबसे लोकप्रिय है। आम गर्म चादरों की अपेक्षा इस चादर की दोहरी बुनाई की गई है। जिससे यह ठण्ड में लोगो का राहत आम चादरों के मुकाबले ज्यादा राहत देंगी। 6200 रुपये में जैसलमेरी चादरें बिक रही हैं। आम चादरों के मुकाबले यह चादरें लोगों को ज्यादा राहत दिलायेंगी। कम्बल की तरह जैसलमेरी चादरें भी लोगों को गर्मी का एहसास दिलायेंगी। व्यवस्थापक का कहना है कि फिलहाल 50 जैसलमेरी चादरें मंगाई गई हैं। बिक्री को देखते हुए और चादरों की डिमांड की जा रही है।

‘थुलमा कंबल की खूब डिमांड

इसके अलावा बाजार में पहाड़ी कम्बल ‘थुलमा भी आ गया है। थुलमा कम्बल यार्क के बाल से बनाया जाता है। जिसे कश्मीरी पहनते हैं। कश्मीर में बर्फबारी के समय लोग इसे ओढ़कर ठण्ड से बचाव करते हैं। इस कम्बल की कीमत 4-6 हजार रुपये है। गांधी आश्रम में यह कम्बल विभिन्न रंगों व डिजाइनों में उपलब्ध है। सफेद रंग के थुलमा की बिक्री सबसे ज्यादा है। यह कम्बल आठ फीट लम्बी व पांच फीट चौड़ी है। इसके साथ ही इस कम्बल की उम्र 30 वर्ष मानी जा रही है।

राजस्थानी सदरी और जैकेट की धूम

गांधी आश्रम में बीकानेर, जयपुर व कश्मीर से आई हुई सदरी व जैकेट भी तेजी से बिक रहे हैं। सदरी व जैकेट पुराने लोगों की पसन्द के साथ-साथ युवा वर्ग के पसन्द को ध्यान में रखकर मंगाई गई हैं। गांधी आश्रम में विभिन्न रंगों व डिजाइनों में यह उपलब्ध हैं। युवा वर्ग में इसकी मांग सबसे ज्यादा बढ़ी है। इस वर्ष युवा वर्ग भी गांधी आश्रम के कपड़ों को ज्यादा तरजीह दे रहें हैं। युवाओं की पसन्द को ध्यान में रखते हुए इसे खासतौर पर तैयार किया गया है। इसकी कीमत 1200 से लेकर 3000 रुपये तक है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:jaisalmeri bed sheets will be beneficial in Cold weather in Gorakhpur