DA Image
17 फरवरी, 2020|1:48|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ODOP के उद्यमियों को आईआईएम इंदौर दिखाएगा राह

ओडीओपी के उद्यमियों को आईआईएम इंदौर दिखाएगा राह

एक जिला एक उत्पाद (ओडीओपी) के उत्पादों के निर्यात के लिए जहां प्रदेश सरकार हर जिले को एक्सपोर्ट हब के रूप में विकसित करने के लिए डिस्ट्रिक्ट एक्शन प्लान तैयार कर रही है। दूसरी ओर गोरखपुर मंडल में ओडीओपी योजना के उद्यमियों को प्रशिक्षित कर उन्हें वैश्विक बाजार में मजबूती से खड़ा करने के लिए प्रदेश सरकार ने आईआईएम इंदौर से हाथ मिलाया है।

आईएमएम इंदौर के निदेशक प्रोफेसर हिमांशु राय की अगुवाई में आईआईएम के पांच विशेषज्ञ ओडीओपी के उद्यमियों के लिए प्रशिक्षण माड्यूल बनाने के साथ प्रशिक्षण प्रदान करेंगे। एक जिला एक उत्पाद योजना के अंतर्गत देवरिया में सजावट के सामान, गोरखपुर में टेराकोटा, कुशीनगर में केला फाइबर उत्पाद, महराजगंज में फर्नीचर को चिह्नित किया है। इन उद्यमियों को बैंक ऋण की सुविधा उपलब्ध कराने के साथ संसाधन भी उपलब्ध कराए गए हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का मानना है कि इस योजना की सफलता के लिए जमीनी स्तर पर काम करने की जरूरत है। योजना की सफलता से न केवल बड़े पैमाने पर लोगों को स्वरोजगार एवं रोजगार मिलेगा बल्कि विदेशी मुद्रा की प्राप्ति भी होगी।

इन समस्याओं से जूझ रहे उद्यमी

ओडीओपी योजना ने काफी संख्या में युवाओं को भी आकर्षित किया है। लेकिन योजना से अब तक जुड़े उद्यमी, उद्यमी की भूमिका के लिए तैयार नहीं है। सरकार प्रशासनिक अधिकारियों की मदद से उनकी समस्याओं का निदान करने के साथ उन्हें प्रशिक्षित भी करती है लेकिन वांछित परिणाम नहीं मिल पा रहे। इन उद्यमियों की सुविधा के लिए सरकार की योजनाओं और कायदे-कानूनों को सहज भी बनाया गया लेकिन जागरूकता के अभाव में उद्यमी लाभ नहीं उठा पाते। बदलते दौर के साथ आकर्षक और सुविधाजनक नए डिजाइन का अभाव भी बाजार में उन्हें खड़ा नहीं होने देता।

प्रदेश सरकार और आईआईएम इदौर

उद्यमियों की इन समस्याओं के समाधान के लिए लिए आईआईएम इंदौर और उत्तर प्रदेश सरकार ने हाथ मिलाया है। ताकि गोरखपुर मण्डल के ओडीओपी उद्यमियों को बाजार की प्रतिस्पर्धा के लिए समर्थ बनाया जा सके। आईआईएम के निदेशक प्रो. हिमांशु राय के निर्देशन में प्रो. सौरभ कुमार, प्रो. संजीव त्रिपाठी, प्रो. अमित कुमार वत्स, प्रो. सौरभ कुमार और प्रोफेसर श्रीमति श्रुति तिवारी प्रशिक्षण देंगे। इस पूरे प्रोजेक्ट पर 81.50 लाख रुपये खर्च होंगे। 20 बैच में 1200 उद्यमियों को प्रशिक्षण दिया जाएगा। प्रत्येक प्रशिक्षण सत्र 6 घंटे की अवधि का होगा।

ओडीओपी योजना में रोजगार एवं स्वरोजगार की अपार संभावनाएं हैं। सरकार ने इस योजना से जुड़ने वाले उद्यमियों की सुविधा के लिए कई कदम उठाए हैं। आईआईएम इंदौर से जुड़ाव इसी की एक कड़ी है। इससे उद्यमियों में कारोबार की समझ बढ़ेगी। उन्हें अपने उत्पाद की मार्केटिंग, उत्पादन में नवाचार भी आएगा।

- नवनीत सहगल, प्रमुख सचिव

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:IIM Indore will show the way to ODOP entrepreneurs