DA Image
4 जून, 2020|7:02|IST

अगली स्टोरी

हैवानियत के आरोपियों को भागने कैसे देती, हुई मानवता की रक्षा

हैवानियत के आरोपियों को भागने कैसे देती, हुई मानवता की रक्षा

स्कूल कॉलेजों के विद्यार्थियों ने हैदराबाद कांड के बदमाशों को एनकाउंटर में मार गिराए जाने पर संतोष जाहिर किया है। एक स्वर में पुलिस की तारीफ की है। कहा है कि हैवानियत के जिन आरोपियों को तत्काल कड़ी सजा देने की मांग सड़क से संसद तक की जा रही थी, वह पुलिस कस्टडी से भागते तो पुलिस कैसे छोड़ देती। एनकाउंटर में ऐसे बदमाशों को मारकर पुलिस ने मानवता की रक्षा की। पूरे देश को इन पुलिसकर्मियों का मनोबल बढ़ाना चाहिए। मानवता की रक्षा में पूरे देश को साथ होना चाहिए। तेलंगाना में हुई घटना को लेकर शुक्रवार को अलग-अलग स्थानों पर संवाद आयोजित किया गया। इस दौरान संवाद में मौजूद छात्र-छात्राओं ने खुलकर आपनी बात रखी।

एसवीएम महिला पीजी कॉलेज, आर्य नगर

समाज के लिए जरूरी था कड़ा संदेश

सरस्वती विद्या मंदिर महिला पीजी की छात्राओं ने कहा कि हैवानों को कड़ी सजा देने की मांग पूरे देश की जनता कर रही थी। दुर्दांत बदमाश अब पुलिस कस्टडी से भाग रहे थे तो उन्हें मारा जाना बिल्कुल सही है। पुलिस ऐसा नहीं करती तो यह हैवान पता नहीं क्या करते। छात्रा प्रियंका ने कहा कि दिल्ली रेप व मर्डर के दोषियों के साथ भी यही सलूक हुआ तो आज हैदराबाद कांड शायद नहीं होता। विजयलक्ष्मी, शैल मिश्रा व सोनाली सिंह ने कहा कि ऐसे हैवानों के मानवाधिकार की बात नहीं होनी चाहिए। जनता ऐसे हैवानों को तत्काल सजा देने की मांग करती है। श्वेता राय, अंकिता, रोशनी व वैशाली सिंह ने कहा कि पुलिस के पास कोई दूसरा विकल्प नहीं था। सुनिधि ओझा, साक्षी, शिवांगी चंद, अर्चना सिंह, ऋचा श्रीवास्तव व सृष्टि राय ने पुलिस की कार्रवाई को सही ठहराया।

सेंट्रल एकेडमी, शाहपुर

कानून बनाने सें नहीं, लागू करने से रुकेंगी घटनाएं

सेंट्रल एकेडमी शाहपुर में आयोजित संवाद की शुरुआत करते हुए 11वीं के छात्र सर्वेश ने कहा कि देश में एक दशक के भीतर रेप की घटनाएं तेजी से बढ़ी हैं। कृतार्थ मिश्रा ने कहा कि घटना में आरोपित का भागते हुए एनकाउंटर किया जाना ठीक है। वरना यह दुबारा ऐसी घटना को अंजाम दे सकते थे। अनन्या त्रिपाठी, जया चौहान व प्रियांशी ने कहा कि सरकार को इस पर कड़े कानून बनाने चाहिए जिससे इन घटनाओं पर रोक लगाया जा सके। अक्षिता मिश्रा, माला श्रीवास्तव ने कहा कि रेप करने वाला चाहे जिस आयु वर्ग का हो उसे फांसी की सजा दी जानी चाहिए। इस दौरान स्नेहा वर्मा, प्रवीण सोनकर, कृतार्थ मिश्र, सर्वेश राव, फहद इकबाल, आर्यन सिंह, ऋषभ सिंह,आकाश कुमार,अभिषेक चौधरी, श्वेता सिंह, पीयूष यादव, अंजलि सिंह, प्रियांशी सिंह, श्रेया पांडेय आदि मौजूद रहीं।

स्प्रिंगर पब्लिक स्कूल, इंडस्ट्रियल एरिया

दोषियों को एक सप्ताह के भीतर फांसी मिले

स्प्रिंगर पब्लिक स्कूल में हैदराबाद कांड पर हुए संवाद की शुरुआत करते हुए रिया चौधरी ने कहा कि घर में ही अच्छे संस्कार व शिक्षा दिए जाने की जरूरत है ताकि लोगों में नारियों के प्रति सम्मान हो। आंचल, विशाखा, श्रेया यादव, अनन्या ने कहा कि खुलेआम ऐसे लोगों को फांसी या पब्लिक के हवाले कर देना चाहिए। अविनाश सिंह, शिवम सिंह, शरीम खान ने कहा कि उन्नाव में हुई घटना के आरोपियों में भी भय का माहौल है। पुलिस ने समय रहते ही सही निर्णय लिया। आतिफ ने कहा कि रेप में दोषी पाए जाने पर ऐसे लोगों को खुले आम पब्लिक के बीच में सजा दी जाना चाहिए। शना नसीम ने कहा कि कड़े कानून बनाना चाहिए जिससे तत्काल न्याय मिल सके। अभय चौधरी ने कहा कि रेप करने वाले लोगों के अंदर भय नहीं रहता इसलिए वह ऐसी घटना को अंजाम देते हैं।

विश्वविद्यालय छात्र, पंत पार्क

एनकाउंटर सही मगर ऐसी घटनाओं पर रोक लगे

पंत पार्क में डीडीयू के विद्यार्थियों ने कहा कि हैदराबाद एनकाउंटर सही है मगर सोचने वाली बात यह है कि ऐसी जघन्य घटनाएं होती ही क्यों हैं। देश के हर लड़के को बचपन से ही हर लड़की का सम्मान करना सिखाना चाहिए। हैवानों को इंसान समझने की कभी भूल नहीं करनी चाहिए। पंत पार्क में मौजूद राधा, प्रतिभा भारती ने कहा कि हैवानों को फांसी देने की पूरा देश मांग कर रहा था। पहले ही कस्टडी से भागने पर उन्हें उचित सजा मिल गई। मगर क्या हम ऐसी घटनाएं रोकने के ठोस उपाय नहीं कर सकते। सरोज ने कहा कि बिल्कुल सही हुआ हैदराबाद में। शिवम मिश्रा, सुधीर पांडेय, प्रसून त्रिपाठी, आकाश श्रीवास्तव व अनूप बरनवाल ने कहा कि हैवानों के साथ ऐसा ही सलूक होना चाहिए।

सनराइज पावर सोशल ट्रस्ट, पादरी बाजार

पुलिस ने एनकाउंटर का सही निर्णय लिया

सनराइज पावर सोशल एंड एजुकेशनल ट्रस्ट के तत्वाधान में आयोजित संवाद के दौरान युवाओं ने हैदराबाद में हुई घटना पर चर्चा की। संस्था के प्रबंधक जितेंद्र शर्मा ने कहा कि आरोपियों द्वारा पुलिस की गिरफ्त से भागने का प्रयास करना गलत था। इस पर पुलिस ने सूझबूझ दिखाकर एनकाउंटर कर सही निर्णय लिया। यदि आरोपी भाग जाते तो वह दुबारा ऐसा जघन्य अपराध कर सकते थे। रेनू ने कहा कि रेप करने वालों के लिए कड़ी से कड़ी सजा का प्रावधान होना चाहिए। वर्षा व पुष्पा ने एक स्वर में रेप की घटना में दोषी पाए जाने वालों को फांसी की सजा दिए जाने को उचित बताया। राहुल ने कहा कि तेलंगना में पुलिस द्वारा एनकाउंटर किया जाना सही है। इससे आगे की घटनाओं को रोका जा सकेगा। बैठक में किशन,अंकुर, मुनिता, काजल, शिवम आदि ने अपने-अपने विचार रखें।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:How to let the accusers of cruelty escape protecting humanity