DA Image
4 अगस्त, 2020|7:16|IST

अगली स्टोरी

स्वास्थ्य विभाग को ढूंढ़े नहीं मिल रहे जिले के 30 संक्रमित

स्वास्थ्य विभाग को ढूंढ़े नहीं मिल रहे जिले के 30 संक्रमित

जिले के 30 कोरोना संक्रमित लापता हैं। जांच में उनकी रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई लेकिन मोबाइल नंबर और पता गलत दर्ज होने से स्वास्थ्य विभाग उन तक पहुंच नहीं पा रहा है। विभाग को आशंका है कि हो सकता है कि इन मरीजों ने नाम भी गलत दर्ज कराया हो। अब स्वास्थ्य विभाग और पुलिस महकमा उनकी तलाश कर रहा है। अब विभाग ने कोरोना जांच के लिए पहचान पत्र अनिवार्य कर दिया है।

जुलाई में जिले में संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। इस बीच एक नई समस्या से भी विभाग जूझ रहा है। दरअसल, जुलाई में जिले में 1782 संक्रमित मिले इसमें 30 संक्रमितों की पहचान ही नहीं हो सकी। इन संक्रमितों ने अपना पता और मोबाइल नंबर गलत दर्ज कराया है। सीएमओ डॉ. श्रीकांत तिवारी ने बताया कि संक्रमितों की तलाश की जा रही है। इसके लिए एडिशनल सीएमओ को लगाया गया है। इन लोगों ने नाम, पता और मोबाइल नंबर गलत दर्ज कराया है।

जांच के लिए देना होगा आईडी प्रूफ

सीएमओ डॉ. श्रीकांत तिवारी ने बताया कि अब मरीजों को एंटीजन और आरटीपीसीआर से जांच कराने के लिए पहचान पत्र देना होगा। बिना पहचान पत्र के जांच नहीं कराई जाएगी। इसे लेकर शासन की ओर से निर्देश भी मिला है। यही वजह है कि अब स्वास्थ्य केंद्रों पर जांच के लिए लोगों को आईडी प्रूफ देना पड़ रहा है।

जिनका पता उनका कोई खबर ही नहीं लेने वाला

एक तरफ विभाग 30 लोगों की तलाश में जुटा हुआ है। वहीं, दूसरी ओर होम आइसोलेशन में रहने वाले या फिर संक्रमित होने वाले कई ऐसे भी मरीज हैं, जिनका कोई खोज खबर नहीं लेने वाला है। होम आइसोलेट मरीजों को किससे संपर्क करना है, इसकी जानकारी तक नहीं दी गई है। किसी तरह से मरीज नंबर ढूंढ़कर महकमे के अफसरों को फोन कर रहे हैं, तो उन्हें कोई जानकारी नहीं दी जा रही है। मरीजों को यह तक नहीं बताया जा रहा है कि कौन सी दवा का सेवन करें। ऐसे मरीजों की संख्या भी 200 से अधिक है जिनके ब्योरा उपलब्ध होने के बावजूद विभाग ने संपर्क नहीं किया।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Health department cannot find 30 infected in the district