Half month Ramjan passed in Worship - अल्लाह की इबादत करते हुए आधा माह-ए-रमजान बीत गया DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अल्लाह की इबादत करते हुए आधा माह-ए-रमजान बीत गया

Ramzan, First, Hour, Last, Minute

मुकद्दस माह-ए-रमजान में अल्लाह की इबादत करते हुए आधा महीना बीत गया। मंगलवार को 15 घंटा 15 मिनट लंबा 15वां रोजा अल्लाह की इबादत में गुजरा। मस्जिदें नमाजियों से आबाद रहीं। कुरआन-ए-पाक की तिलावत हो रही है। घरों में महिलाएं इबादत में मशगूल रहीं। नफ्ल नमाज कसरत से अदा की जा रही है। सामूहिक रोजा इफ्तार की दावतों में तेजी आ गई है। बाजार में ईद की खरीददारी शुरू हो चुकी है। मगफिरत का आधा अशरा बीत चुका है। मंगलवार को गौसिया मस्जिद अंधियारीबाग में हाफिज मो. इस्हाक कादरी व मस्जिद शेख झांऊ साहबगंज में कारी नसीमुल्लाह ने तरावीह नमाज के दौरान एक कुरआन शरीफ मुकम्मल किया।

अकीदत से याद किये गये इमाम हसन
गोरखपुर। शहर की मस्जिदों में चल रहे रमजान के विशेष दर्स के दौरान उलेमा-ए-किराम ने रोजे के फजायल बयान किए। वहीं हजरत सैयदना इमाम हसन रजियल्लाहु अन्हु की यौमे विलादत पर खास तकरीर की। हजरत मुबारक खां शहीद मस्जिद नार्मल में मुफ्ती मो. अजहर शम्सी ने कहा कि हजरत सैयदना इमाम हसन के पिता हजरत सैयदना अली तथा आपकी माता हज़रत फातिमा जहरा थीं। आपकी सूरत पैगंबर-ए-आजम हजरत मोहम्मद साहब से बहुत अधिक मिलती थी। आपका पालन पोषण आपके माता-पिता व आपके नाना पैगंबर-ए-आजम की देखरेख में हुआ तथा इन तीनों महान हस्तियों ने मिलकर हजरत इमाम हसन में मानवता के समस्त गुणों को विकसित किया। भलाई करना, हजरत इमाम हसन के व्यक्तित्व की विशेष पहचान है। हजरत इमाम हसन वंचितों और पीड़ितों की आशा की किरण थे। हजरत इमाम हसन बहुत अधिक नैतिकता और इंसानी गुणों के स्वामी थे, वह विनम्र, सम्मानिय, सुशील, दानी, क्षमा करने वाले और लोगों के मध्य पसंदीदा महान हस्ती थे।   आपके पीने के पानी मे ज़हर मिला दिया गया था, यही जहर आपकी शहादत का कारण बना। आपको जन्नतुलबक़ी नामक कब्रिस्तान में दफ़्न किया गया।

नौ साल के मुजम्मिल ने रखा पहला रोजा
जाफरा बाजार निवासी नाजमा व आदिल अहमद के नौ वर्षीय पुत्र मुजम्मिल अहमद ने मंगलवार को अपना पहला रोजा रखा। मुजम्मिल सेंट जोसेफ गोरखनाथ शाखा के छात्र हैं। मुजम्मिल के ननिहाल बिन्द टोला से सहरी का खास एहतमाम किया गया। इस मौके पर नसीराबाद स्थित हैप्पी मैरेज हाउस में सामूहिक रोज़ा इफ्तार का कार्यक्रम हुआ। शिद्दत की धूप व प्यास को बर्दाशत करते हुए मुजम्मिल ने दिन भर अल्लाह की इबादत और नमाज में अपना वक्त गुजारा। परिवार व रिश्तेदारो के साथ शाम में अल्लाह का शुक्र अदा करते हुए रोजा खोला। इस मौके पर उन्हें ढे़र सारे तोहफे और दुआएं मिली।

हिन्दू-मुस्लिम ने साथ खोला रोजा
बैंक रोड स्थित फर्नीचर हाउस में मंगलवार को सामूहिक रोजा इफ्तार हुआ। जिसमें हिंदू-मुस्लिम समुदाय की सहभागिता रही। इस मौके पर हरिकेश कुमार, मो. नेहाल, मो. आजम, अयूष कुमार, रुपेश कुमार, अख्तर, आफताब, मदन लाल, ब्रम्हानंद, मनोहर लाल, अमीन, शाबान, उमैर अशरफ, अशोक यादव, मो. सलीम, कल्लू, कुंज कसौधन, दीपक, श्याम, टीपी वर्मा, रिश्भ, बदरुज्जमा अंसारी, गोविंद गुप्ता, शंकर, मुन्ना, रामलखन पासवान आदि मौजूद रहे।

दरगाह पर सामूहिक रोजा इफ्तार आज
अंधियारीबाग स्थित दरगाह हजरत मिस्कीन शाह अलैहिर्रहमां पर 22 मई बुधवार की शाम में सामूहिक रोजा इफ्तार का आयोजन किया गया है। यह जानकारी दरगाह के खादिम फिरोज अहमद नेहाली ने दी है।

                बुधवार        गुरुवार
                इफ्तार        सहरी
सुन्नी                 6:47            3:29
शिया                6:53            3:22

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Half month Ramjan passed in Worship