DA Image
1 अक्तूबर, 2020|5:28|IST

अगली स्टोरी

चार हजार लोगों ने कोविड-19 एडवांस में नौ करोड़ निकाले

चार हजार लोगों ने कोविड-19 एडवांस में नौ करोड़ निकाले

कोरोना संक्रमण काल में केन्द्र सरकार की कोविड-19 एडवांस योजना निजी सेक्टर के कर्मचारियों के लिए बड़ा सहारा बनकर सामने आई है। लॉकडाउन की वजह से आर्थिक संकट झेल रहे परिक्षेत्र के 4137 कर्मचारियों को सीधा लाभ मिला। उन्होंने अपने ईपीएफ खाते में जमा रकम में से नौ करोड़ रुपये कोविड एडवांस के नाम पर निकाल कर अपना काम चलाया।

25 मार्च को लॉकडाउन लगने के बाद निजी सेक्टर के कल-कारखाने बंद हो गए। ऐसे में कुछ संस्थानों के जिम्मेदारों ने कर्मचारियों के वेतन में कटौती करने की रणनीति बनाई। वेतन से कटौती होने से कर्मचारियों के सामने आर्थिक संकट खड़ा हो गया। ऐसे समय में केन्द्र सरकार ने कर्मचारियों के ईपीएफ खाते में जमा रकम से निकासी के लिए कोविड-19 एडवांस योजना अप्रैल के दूसरे सप्ताह में लांच की। ताकि निजी सेक्टर के कर्मचारी अपने खर्चों की भरपाई इस रकम से कर सकें। इसके साथ ही केन्द्र सरकार ने कर्मचारी भविष्य निधि संगठन को निर्देश दिए कि ऑनलाइन आवेदन प्राप्त होते ही कर्मचारियों के खाते में एडवांस की रकम क्रेडिट कर दी जाए। इस योजना के तहत कर्मचारी को अपने ईपीएफ खाते में जमा रकम का 75 फीसदी या फिर तीन महीने के वेतन और डीए की रकम निकालने की सुविधा थी।

ईपीएफ खाते में जमा रकम से काम चलाया

एक फाइनेंस कंपनी में काम करने वाले सिद्धार्थ मिश्र ने बताया कि लॉकडाउन होने के बाद कामकाज ठप हो गया। ऐसे में कंपनी से वेतन के साथ मिलने वाला इंसेटिव भी बंद हो गया। इस तरह 23 से 24 हजार रुपये वेतन के स्थान पर महज 10 हजार रुपये ही मिल रहे थे। ऐसे में ईपीएफ खाते से रकम निकालने की सुविधा का पता चला। रकम निकालने के लिए ऑनलाइन आवेदन किया। सप्ताहभर में पैसा खाते में आ गया। इस रकम से अबतक काम चला है। ईपीएफ खाते में जमा रकम का संकट के समय सही प्रयोग हुआ। कुछ इसी तरह की बात एक दवा कंपनी के प्रतिनिधि मनोज कुमार राय ने भी कहीं। बिजली निगम के संविदा कर्मचारी मनोज कुमार ने कहा कि ईपीएफ खाते से एडवांस रकम मिलने से बड़ी राहत मिली।

ईपीएफ कार्यालय 11500 लोगों के लिए बरदान बना

कोरोना संक्रमण काल में कर्मचारी भविष्य निधि संगठन क्षेत्रीय कार्यालय 11,500 लोगों के लिए बरदान बन गया। लाकडाउन के दौरान सेवानिवृत्त होने वाले कर्मचारी, बीमारी के नाम पर एडवांस रकम निकालने, डेथ क्लेम लेने वाले परिजनो को ईपीएफओ ने घर बैठे करीब 66 करोड़ का भुगतान दिया है। यह सभी क्लेम लोगों ने घर बैठे ही ऑनलाइन आवेदन किया था। ईपीएफओं ने सभी क्लेम का निस्तारण भी कर दिया। अप्रैल से अबतक करीब 11,500 लोगों के क्लेम का सेटलमेंट कर सभी को 66 करोड़ रुपये का भुगतान किया है। अफसरों का कहना है कि क्लेम का निपटारा करने के लिए हमने वाटसएप नम्बर जारी किया। बहुत से लोगों ने वाट्सएप नम्बर 9044977792 पर वाट्सएप कर अपनी समस्या का निराकरण कराया।

बोले आयुक्त

गोरखपुर परिक्षेत्र के निजी सेक्टर के 4137 कर्मचारियों ने कोविड-19 एडवांस योजना का लाभ लिया है। इसके तहत आवेदकों को नौ करोड़ रुपये उनके खाते में क्रेडिट किए गए है। इतना ही नहीं, 11,500 क्लेम सेटलमेंट कर करीब 66 करोड रुपये का भुगतान किया गया है। कुछ मामले ऐसे भी है जो किसी संस्थान से निकाले जाने पर अपने ईपीएफ खाते फाइनल हिसाब कराए हैं।

- मनीष मणि, आयुक्त, कर्मचारी भविष्य निधि संगठन, गोरखपुर परिक्षेत्र

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Four thousand people took out nine crores in Kovid-19 advance