DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कैशलेेेस होगा राशन वितरण, गोरखपुर मेें दस डिपो से होगी शुरुआत

गोरखपुर। राजीव दत्त पाण्डेय
गोरखपुर जिले में राशन डिपो पर राशन वितरण का कार्य कैशलेस करने की तैयारी शुरू हो गई है। पायलेट प्रोजेक्ट में 5 तहसीलों में सस्ता राशन उपलब्ध कराने वाले 10 डिपो का चयन कर योजना पर अमल कराने में प्रशासन जुट गया है। असल में यह कदम अर्थव्यवस्था को कैश से कैशलेस की तरफ ले जाने की जद्दोजहद में जुटी केंद्र सरकार के उस फैसले का हिस्सा है जिसमें देश की सभी राशन की दुकानों में कैशलेस व्यवस्था लागू करने का निर्णय लिया है।

एलपीजी के बाद अब सरकार ने राशन की दुकानों से सब्सिडी वाले अनाज की आपूर्ति पर आधार अनिवार्य कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने भी सार्वजनिक वितरण प्रणाली यानी पीडीएस के तहत खाद्य सामग्री और अनाज, एलपीजी और मिट्टी के तेल के वितरण में आधार कार्ड का इस्तेमाल के इस्तेमाल की अनुमति प्रदान की है। ऐसे में राशन वितरण में होने वाली अनियमितताओं को रोकने में जुटी में सरकार ने यह कदम उठाया है। फिलहाल गोरखपुर शहरी क्षेत्र सार्वजनिक वितरण प्रणाली की ‘इलेक्ट्रानिक प्वाइंट ऑफ सेल’ ई-पीओएस के जरिए राशन वितरण किया जा रहा है। इनके उपभोक्ताओं को भी प्रेरित किया जा रहा है कि वे कैशलेश भुगतान करे। 

चयनित डिपो धारकों को मिलेंगे लैपटाप
कैशलेस ट्रांजेक्शन से जुड़ने वाले दस डिपो धारकों को जिला पूर्ति कार्यालय की ओर से लैपटाप दिया जाएगा। ये लैपटाप कार्यालय में उपलब्ध करा दिए गए हैं। 

डाटा किया जा रहा अपडेट
अभियान चला कर चयनित गांव में सभी परिवारों का आधार कार्ड बनाया जारहा है। उनके आधार कार्ड को बैक खाता, मोबाइल, राशन कार्ड, पेंशन, एलपीजी गैस सिलेंडर सभी के सात लिंक किए जा रहे हैं। राशनकार्ड के दर्ज रिकार्ड की घर-घर जाकर जांच हो रही है। ताकि डाटा में कोई गलती न हो। यहां उपभोक्ता को डेबिट कार्ड, रुपे कार्ड, भीम एप, नेटबैंकिंग के जरिए कीमत चुकाने का विकल्प होगा।  

इन राशन डिपो का हुआ कैशलेस ट्रांजेक्शन के लिए चयन
डिपो धारक का नाम-ग्राम पंचायत- तहसील
जर्नादन चौधरी-रुद्रपुर-चौरीचौरा 
चंदू-जंगल औराही-सदर
शांति देवी-नरायनपुर-सदर
परशुराम-सरण्डा-सदर
जंगीप्रसाद-बिजरहवा-सदर
अयोध्या प्रसाद-खुटभार-खजनी
दान बहादुर उपाध्याय-खुटभार-खजनी
जयहिंद-कैदहांखुर्द-कौड़ीराम(बांसगांव)
गुलाब गुप्ता-बघराई-बांसगांव
चंद्रभान-कसरवल-सहजनवां


और ईपीओएस से राशन वितरण की पहले ही हो चुकी शुरूआत
उत्तर प्रदेश शासन ने राशन वितरण में पारदर्शिता लाने के लिए सख्त कदम उठाए हैं। इसका सीधा फायदा आम आदमी को होगा। ईपीओएस मशीन से जिस लाभार्थी को जितना राशन जा रहा उन्हें इसकी पर्ची मिल रही है। इसमें राशन की मात्रा, उसका मूल्य और समय अंकित रहता है। इस मशीन से जो राशन डीलर स्टॉक रजिस्टर में फर्जीवाड़ा करते थे, उस पर रोक लगी है। इन मशीनों के संचालन में सर्वर डाऊन होने की समस्या का समाधान करा दिया गया, सभी मशीनों ईपीओएस मशीनों को 3डी क्नेक्टिवीटी की सुविधा उपलब्ध करा दी गई है। 

ये सुविधा है मशीन में
आधार कार्ड रीडिंग, डॉक्यूमेंट स्कैनर, थम्ब इम्प्रेशन, एंड्रॉयड टच स्क्रीन, इंटरनेट कनेक्टिविटी
राशन डिस्ट्रिब्यूशन डीटेल, फैक्ट फाइल।
शहर में कुल राशन की दुकान - 340
देहात क्षेत्र में कुल राशन की दुकान - 1700
कुल राशन की दुकान - 2040
कुल लाभार्थी शहर - करीब 1 लाख 50 हजार


किसको- कितना राशन
मात्रा-मूल्य
गेंहू (3 किग्रा) - 2 रुपये प्रति किग्रा
चावल (2 किग्रा) - 3 रुपये प्रति किग्रा
(राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा के तहत 12 रुपए में 5 किलोग्राम खाद्यान्न मिलेगा)

‘‘पूरे जिले में पीओएस मशीन के जरिए ही राशन दिया जाएगा। पूरे शहरी इलाकों में पड़ने वाली 340 दुकानों में ईपीओएस मशीन से वितरण शुरू कर दिया गया है। दस डिपो को कैशलेस बनाने की कार्रवाई की जा रही है, कोशिश है कि जल्द से जल्द शुरू किया जाए।’’
राजीव तिवारी, जिला पूर्ति अधिकारी गोरखपुर

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Food grain distribution system will be cashless