DA Image
7 जुलाई, 2020|1:52|IST

अगली स्टोरी

गोरखपुर के पहले कोरोना मरीज का सीएम योगी लेते थे हालचाल, कोरोना ठीक हो गया इस वजह से गई जान

heart attack

गोरखपुर के पहले कोरोना संक्रमित 49 वर्षीय बाबूलाल की मंगलवार का मौत हो गई। वह उरुवा के हाटा बुजुर्ग गांव के निवासी थे। उन्होंने कोरोना से तो जंग जीत ली थी लेकिन जिंदगी से हार गए। उनकी मौत की वजह दिल का दौरा बताया जा रहा है। 

बाबूलाल दिल्ली में इसी साल की शुरुआत में गए। वह पेंट-पॉलिश का काम करते थे। उन्हें दिल और गुर्दे की बीमारी थी। बताया जाता है कि 10 अप्रैल से उनकी तबीयत खराब होने लगी। परिजनों ने पहले दिल्ली में कुछ डॉक्टरों को दिखाया। इलाज से कोई फायदा नहीं हुआ। इसके बाद 20 अप्रैल को उन्हें सफदरजंग अस्पताल में भर्ती करा दिया गया। वहां से डॉक्टरों ने 25 अप्रैल को हायर सेंटर के लिए रेफर कर दिया। दिल्ली में बड़े अस्पताल जाने की बजाय परिजन उन्हें लेकर वापस 26 अप्रैल को अपने गांव लौट आए।

प्रधान ने उन्हें गांव के बाहर ही एक झोपड़ी में रोक दिया। उसी दिन उनकी तबीयत खराब होने लगी। इसके बाद उन्हें बीआरडी मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया। इसके बाद डॉक्टरों ने उनका सैम्पल कोरोना जांच के लिए भेजा। उसी दिन रात को उनमें कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई थी। वह पहले ऐसे मरीज थे जिन्हें ठीक होने में एक माह लगा। वह 26 मई को डिस्चार्ज हुए थे। उन्हें दिल व गुर्दा के साथ ही शुगर की बीमारी थी। सोमवार की रात में उन्हें सीने में दर्द हुआ। परिजन मंगलवार के तड़के उन्हें लेकर बीआरडी मेडिकल कालेज पहुंचे। उन्हें मेडिकल कॉलेज के मेडिसिन वार्ड में भर्ती कराया गया। जांच के बाद डॉक्टरों ने दिल का दौरा बताया। कुछ देर इलाज के बाद उनकी मौत हो गई। 

वीसी में सीएम लेते थे नाम
जिले में कोरोना संक्रमण का पहला केस होने के कारण बाबूलाल का नाम सीएम योगी आदित्यनाथ को पता था। वह अक्सर कोरोना की समीक्षा बैठक के दौरान अधिकारियों से बाबूलाल का हाल लेते। बाबूलाल के डिस्चार्ज होने के बाद अधिकारियों ने इसकी सीएम को जानकारी दी थी। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:first corona patient died in gorakhpur due to heart attack