DA Image
27 अक्तूबर, 2020|8:51|IST

अगली स्टोरी

सुल्तान से दया की उम्मीद में परिवार को नेशनल डे का इंतजार

सुल्तान से दया की उम्मीद में परिवार को नेशनल डे का इंतजार

गोरखपुर। वरिष्ठ संवाददाताईशनिंदा के कथित आरोप में संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में फंसे अखिलेश पाण्डेय की रिहाई के लिए उनके शिक्षक पिता ने हर कोशिश शुरू कर दी है। वहीं पति को देश वापस ले आने के लिए पत्नी अंकिता भी कानूनी पहलुओं पर नजर रखी हुई हैं। परिवार को अब यूएई के सुल्तान की दया से ही रिहाई की आखिरी उम्मीद है। सुल्तान से दया नहीं मिलती है तो अखिलेश को 15 साल की सजा और एक करोड़ रुपये जुर्माना देना होगा। सांसदों के पत्र के बाद अखिलेश की पत्नी अंकिता की तरफ से विदेश मंत्रालय ने रिहाई के लिए यूएई सरकार से अपील की है। भारत और यूएई से अच्छे रिश्ते होने के नाते परिवार को उम्मीद है कि उनकी गुहार सुन ली जाएगी। शाहपुर के बशारतपुर निवासी शिक्षक अरुण कुमार पाण्डेय के तीन बेटों में सबसे छोटे अखिलेश पाण्डेय यूनियन सीमेंट कम्पनी रास अल खेमा यूनाइटेड अरब अमीरात में सीनियर सेफ्टी इंजीनियर के पद पर कार्यरत थे। उनके अधीनस्थ काम करने वाले एक सूडानी और एक पाकिस्तानी के साथ ही दो भारतीय मुस्लिम मजदूरों की गवाही से ईशनिंदा के तहत वह करीब एक साल से यूएई की जेल में सजा काट रहे हैं। बीते 19 फरवरी 2020 को लोवर कोर्ट ने ईश निंदा में दोषी मानते हुए उन्हें 15 साल की सजा सुनाई और एक करोड़ रुपये जुर्माना लगाया है। जुर्माना न जमा करने पर ताउम्र सजा काटनी पड़ेगी। लोअर कोर्ट के फैसले के खिलाफ परिवार ने यूएई की सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने भी 15 जुलाई 2020 को दिए अपने फैसले में लोअर कोर्ट की सजा को बरकरार रखा है। यही वजह है कि परिवार के पास अब सिर्फ दया याचिका के अलावा कोई और रास्ता नहीं है। अखिलेश के पिता अरुण पाण्डेय ने बताया कि दया याचिका पर फैसला यूएई के सुल्तान करते हैं। उनके यहां इसके लिए अपील की गई है। तीन अवसरों पर सुल्तान से मिलती है दयायूएई में हर साल ऐसे तीन अवसर आते हैं जब कैदियों को दया के आधार पर रिहा किया जाता है। यह अवसर ईद-बकरीद और यूएई के नेशनल डे का होता है। इस दौरान सुल्तान के पास पहुंची हुई दया याचिका की फाइल पर विचार होता है। दो दिसम्बर को यूएई में नेशनल डे मनाया जाता है। लिहाजा परिवार को सबसे पहले दो दिसम्बर की तारीख का इंतजार है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Family waiting for national day in hopes of mercy from Sultan