DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बुखार के साथ अचेत हो बच्चा तो हो सकता है इंसेफेलाइटिस

पूर्वांचल में इंसेफेलाइटिस के खात्मे के लिए शासन ने युद्ध स्तर पर जागरूकता अभियान चलाने का फैसला किया है। इसके लिए सोमवार से इंसेफेलाइटिस प्रभावित गांवों में सर्वे शुरू हो गया है। डीजीएमई की अगुआई में हो रहे इस सर्वे में केजीएमयू , बीआरडी, डब्लूएचओ, यूनिसेफ और चिकित्सा-स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी शामिल रहे। इसमें ग्रामीणों के साथ ही गांव में मौजूद स्वास्थ्य कर्मियों से भी टीम ने सूचनाएं जुटाई। पूर्वी यूपी में वर्ष 1978 से इंसेफेलाइटिस का प्रकोप फैला हुआ है। इस बीमारी के चपेट में 28 जिले हैं। इसके मरीजों की संख्या में बीते एक दशक में कमी नहीं हो रही है। इंसेफेलाइटिस के कारणों की तलाश में स्वास्थ्य विभाग को अब तक कोई खास सफलता नहीं मिली है। ऐसे में शासन ने इस बीमारी से बचाव के उपाय के प्रसार पर जोर देना शुरू कर दिया है। मंगलवार को टीम एक बार फिर सर्वे करेगी। इस दौरान भटहट के दो गांवों में सर्वे किया जाएगा। टीम गांवों में जागरूकता शिविर आयोजित करेगी। डीजीएमई डॉ. केके गुप्ता ने बताया कि सर्वे रिपोर्ट से गांव में बीमारी को लेकर जागरूकता और ग्रामीणों की जानकारी का पता चलेगा। सर्वे रिपोर्ट के आधार पर इसको लेकर योजना बनाई जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Encephalitis could be if these symptoms found