DA Image
3 जून, 2020|7:53|IST

अगली स्टोरी

इमरजेंसी में किशोरी की मौत सकते में कर्मचारी

इमरजेंसी में किशोरी की मौत सकते में कर्मचारी

जिला अस्पताल में एक किशोरी की मौत के बाद हड़कंप मच गया है। उसकी उम्र महज 13 वर्ष है। उसे सांस लेने में तकलीफ हो रही थी । बुखार था। उसे आईसीयू से इमरजेंसी में शिफ्ट किया गया था।

किशोरी जिला अस्पताल में करीब 8 घंटे भर्ती रही। इस दौरान उसकी कोरोना वायरस संक्रमण की जांच नहीं हो सकी। मरीज की मौत के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया। इस घटना के बाद अस्पताल के कर्मचारी डरे हुए हैं ।

बताया जा रहा है कि देवरिया के लार की रहने वाली 13 वर्षीय किशोरी को लेकर शुक्रवार की शाम 7:15 बजे कुछ लोग जिला अस्पताल पहुंचे। उसकी सांस फूल रही थी। धड़कन तेज चल रही थी। खांसी आ रही थी‌। बुखार भी था। गले में दर्द भी था। डॉक्टरों ने पीडियाट्रिक आईसीयू में भर्ती किया। आईसीयू में 2 घंटे बाद उसकी हालत और बिगड़ गई। रात करीब 9 बजे उसे इमरजेंसी वार्ड में भर्ती कर आइसोलेट किया गया । ऑक्सीजन लगाया गया। इसके बावजूद डॉक्टर यह तय नहीं कर सके कि मरीज का कोरोना वायरस जांच के लिए सैम्पल लिया जाए की नहीं। रात करीब 3.20 बजे मरीज की मौत हो गई। अस्पताल प्रशासन ने शव परिजनों को सौंप दिया। रात में ही परिजन शव को लेकर देवरिया चले गए।

सकते में है कर्मचारी

किशोरी की मौत के बाद अस्पताल के कर्मचारी सकते में हैं। पीआईसीयू और इमरजेंसी के कर्मचारी सबसे ज्यादा डरे हैं। वह पीपी किट में नहीं थे। सुरक्षा के नाम पर सिर्फ कपड़े का मास्क और ग्लब्स उनके पास था। शनिवार को दिनभर यह अस्पताल में चर्चा का विषय बना रहा।

मामले की जानकारी मिली है। मरीज की हालत नाजुक थी। उसकी कोरोना वायरस जांच के लिए सैंपल इन क्यों नहीं लिया गया। इसे देखवाया जाएगा।

डॉ. एसके श्रीवास्तव, एसआईसी

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Employee may die teenager in emergency