DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गोरखपुर में हड़ताल पर गए बिजली विभाग के कर्मचारी, उपभोक्ता परेशान

लखनऊ के शक्ति भवन से राष्ट्रीय अध्यक्ष बब्बू अवस्थी की गिरफ्तारी के खिलाफ बिजली निगम के कर्मचारी हड़ताल पर चले गए हैं। शुक्रवार की सुबह 9:30 बजे राष्ट्रीय अध्यक्ष की लखनऊ में गिरफ्तारी हुई। कर्मचारियों के हड़ताल पर चले जाने के कारण बिजली कनेक्शन, बिल रिवीजन, लोड बढ़वाने का कार्य बाधित हो गया। 
शुक्रवार को संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष बब्बू अवस्थी शक्ति भवन के सामने धरने पर बैठ गए थे। इसकी जानकारी होते ही पुलिसकर्मियों ने उन्हें हिरासत में ले लिया। इसके बाद पूरे प्रदेश में कर्मचारी हड़ताल पर चले गए। असल में विद्युत कर्मचारी मोर्चा संगठन काफी समय से 66 सौ ग्रेड पे, पुरानी पेंशन बहाल करने, कर्मचारियों की नियुक्ति करने, संविदा व्यवस्था खत्म करने समेत अन्य मांगों को लेकर आंदोलन कर रहा था। बिजली निगम को दी गई डेड लाइन 11 जुलाई को खत्म हो गई थी। 
गिरफ्तारी की सूचना मिलने पर मोहद्दीपुर स्थित विद्युत वितरण खंड प्रथम के अधिशासी अभियंता कार्यालय पर स्थानीय कर्मचारी प्रदर्शन करने पहुंच गए। प्रदर्शनकारियों ने अध्यक्ष की गिरफ्तारी की निंदा की। निगम अधिकारियों के खिलाफ जोरदार नारेबाजी की। प्रदर्शन के दौरान संजय सिंह, संजय श्रीवास्तव, आनंद चौहान, आशुतोष मिश्र, प्रशांत मिश्र, रामा उपाध्याय, मुकेश शर्मा, सरोजिनी सिंह, पूजा सिंह, अनीता, नरेंद्र यादव समेत अन्य उपस्थित रहे। 
अभियंता संघ के सदस्‍य भी चीफ इंजीनियर कार्यालय पहुंचे
अंडरग्राउंड केबिल मामले में निलंबित अधिशासी अभियंता और एसडीओ का निलंबन खत्म करने की मांग को लेकर अभियंता संघ भी चीफ इंजीनियर के मोहद्दीपुर स्थित कार्यालय पहुंचा। संघ के पदाधिकारियों ने चीफ इंजीनियर से मुलाकात का समय मांगा। उधर गोलघर के अवर अभियंता के निलंबन पर उच्चाधिकारियों से बात करने के लिए चीफ इंजीनियर की ओर से मिला 72 घंटे का अल्टीमेटम भी शुक्रवार शाम पांच बजे खत्म हो रहा है। अवर अभियंताओं ने निलंबन वापसी न होने पर काम न करने की चेतावनी दी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Electricity staff Gorakhpur employees strike consumer disturbed