Dengue patients exceeded 50 in metropolis - महानगर में डेंगू के मरीजों का आंकड़ा 50 के पार DA Image
21 नबम्बर, 2019|2:00|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महानगर में डेंगू के मरीजों का आंकड़ा 50 के पार

महानगर में डेंगू के मरीजों का आंकड़ा 50 के पार

महानगर में डेंगू का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। लगातार डेंगू के नए मरीज सामने आ रहे हैं। बीमारी पर नियंत्रण की स्वास्थ्य विभाग की कवायद कागजी बन कर रह गई है। आलम यह है कि एलाइजा जांच में जिले में मरीजों की संख्या 50 पार कर गई है।

महानगर के पाश कॉलोनी चारू चंद्रपुरी में डेंगू की दस्तक हुई है। कैंट थाने के पास स्थित इस कॉलोनी में रहने वाले कृषि विभाग के बड़े अधिकारी को डेंगू ने चपेट में लिया है। उनका इलाज निजी अस्पताल में चल रहा है। इसके अलावा कॉलोनी में पांच और लोग बुखार से पीड़ित है। अलीनगर में पांच मरीजों में डेंगू की पुष्टि हुई है। इनमें से दो जिला अस्पताल में भर्ती हैं। शेखपुर के चार मरीजों में डेंगू की पुष्टि हुई है। मरीजों के बढ़ते आंकड़े ने विभागीय अधिकारियों की परेशानी को बढ़ा दिया है। मलेरिया विभाग की टीम लगातार डेंगू प्रभावित क्षेत्रों का दौरा कर रही है। टीम उन घरों को नोटिस भी दे रही है जहां डेंगू के लार्वा मिल रहे हैं। इसके बावजूद बीमारी काबू में नहीं आ रही है।

जिला अस्पताल में 90 मरीजों में पुष्टि : जिला अस्पताल में 10 बेड का डेंगू वार्ड बना है। इनमें छह मरीज भर्ती हैं। मरीजों में महिला, किशोरी और युवा शामिल हैं। सर्वाधिक मरीज अलीनगर और शेखपुर के रहने वाले हैं। इसके अलावा गोरखनाथ और सावित्री हॉस्पिटल में भी डेंगू मरीजों का इलाज चल रहा है। जिला अस्पताल में डेंगू मरीजों की एलाइजा जांच की जा रही है। अस्पताल में अब तक 322 मरीजों की एलाइजा जांच की गई। इसमें 90 मरीजों में डेंगू की पुष्टि हुई है। सबसे ज्यादा 54 मरीज जिले के हैं।

मेडिकल कॉलेज में 40 मरीजों में पुष्टि

रैपिड कार्ड टेस्ट में तो 400 से अधिक लोग पॉजिटिव मिले हैं। सूत्रों की माने तो बीआरडी में बीते एक पखवारे में कार्ड टेस्ट से 40 मरीजों में डेंगू की पुष्टि हुई है। कार्ड टेस्ट में 25 से 30 फीसदी जांच में डेंगू की पुष्टि हो रही है। इसके साथ ही कॉलेज में इस वर्ष डेंगू के मरीजों की संख्या 300 के पार हो गई है। हालांकि कॉलेज प्रशासन इन रिपोर्ट को सार्वजनिक नहीं कर रहा है। सीएमओ की ओर से मांगे जाने पर भी कॉलेज प्रशासन ने अब तक कोई रिपोर्ट नहीं भेजी।

साफ पानी में पनपता है डेंगू का मच्छर

डेंगू बुखार एडीज एजिप्टी मच्छर के काटने से होता है। इस मच्छर का शरीर का आधार गहरे काले रंग का तथा सफेद चमकीली पट्टियां होती हैं। अपनी विशिष्ट पहचान के कारण इसे टाइगर मच्छर भी कहते हैं। यह मच्छर साफ पानी में ही अंडे देता है। घर या ऑफिस में लगे कूलर, गमले, ओवर हेड टैंक, टायर या फिर हौदियों में रुके पानी में इसके अंडे मिलते हैं। यह मच्छर दिन में ही काटता है।

ऐसे करें बचाव

डेंगू मच्छर दिन में काटता है। ऐसे में घर के सदस्यों को दिन में पूरी बांह की कमीज, फुल पैंट और पैरों में मोजा पहनना चाहिए। घरों में मच्छरों से बचाव के लिए मच्छरदानी का प्रयोग करना चाहिए। बुखार होने पर दवा के प्रयोग में सतर्कता बरते। पैरासिटामॉल की गोली दें इसके अलावा मरीज के शरीर को पानी के पट्टियों से पोछें। बुखार तेज होने पर तत्काल डॉक्टर से संपर्क करें।

यह न करें

- घरों के आसपास पानी न रुकने दें

- डेंगू बुखार से पीड़ित मरीज को बगैर मच्छरदानी के न रहने दें

- मरीज को एस्प्रीन, ब्रुफेन और कार्टिसोन दवा कत्तई न दें

बोले जिम्मेदार

डेंगू का प्रकोप बढ़ा है। बीमारी पर नियंत्रण के लिए लगातार निरोधात्मक कार्रवाई की जा रही है। इसके बावजूद मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ है। बीआरडी को एक बार फिर से सूचना देने के लिए पत्र लिखा जाएगा।

- डॉ. श्रीकांत तिवारी, सीएमओ

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Dengue patients exceeded 50 in metropolis