DA Image
1 दिसंबर, 2020|8:04|IST

अगली स्टोरी

नई शिक्षा नीति के मुताबिक कोर्स डिजाइन करेगा डीडीयू

नई शिक्षा नीति के मुताबिक कोर्स डिजाइन करेगा डीडीयू

दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय ने नई शिक्षा नीति को लागू करने की तैयारी तेज कर दी है। नई शिक्षा नीति को लागू करने के लिए विश्वविद्यालय में सेंटर ऑफ एक्सीलेंस इन ट्रेनिंग मॉनिटरिंग एंड इंप्लीमेंटेशन आफ एनईपी का गठन किया गया है। शनिवार को यह जानकारी कुलपति प्रो. राजेश सिंह ने उच्च शिक्षा विभाग की अपर मुख्य सचिव मोनिका गर्ग को दी।

अपर मुख्य सचिव ने शनिवार को पहली बार विश्वविद्यालय का दौरा किया। इस दौरान वह अधिकारियों से मिली। विश्वविद्यालय के सभागार में अपर मुख्य सचिव ने गुरु श्रीगोरक्षनाथ शोध पीठ, समस्त विभागों के सेंटर आफ एक्सीलेंस तथा राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अंतर्गत विभिन्न विभागों द्वारा तैयार किए गए प्रस्तावों की समीक्षा की। बैठक को संबोधित करते हुए कुलपति ने कहा कि विश्वविद्यालय में नई शिक्षा नीति के मूल बिंदुओं को ध्यान में रखते हुए बहुविषयक दृष्टिकोण, लचीला पाठ्यक्रम और शिक्षा के अंतरराष्ट्रीयकरण को ध्यान में रख कर नए पाठ्यक्रमों और नए सेंटर्स का प्रस्ताव तैयार किया गया है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में लागू सीबीसीएस प्रणाली की कमियों को शीघ्र ही दूर कर छात्रहित में आवश्यक सुधार किए जा रहे हैं।

बैठक में अपर मुख्य सचिव ने बताया कि सूबे में नई शिक्षा नीति को लागू करने के लिए एक 20 सदस्यीय स्टेयरिंग कमेटी का गठन किया गया। उच्च शिक्षा के क्षेत्र में 17 क्षेत्रों को चिन्हित कर कुल 17 वर्किंग ग्रुप बनाए गए हैं। उत्तर सूबे में इस पर पांच हजार से अधिक वेबिनार विभिन्न विश्वविद्यालयों एवं महाविद्यालयों में आयोजित किए गए। जिनके माध्यम से शिक्षा नीति के उचित क्रियान्वयन का दृष्टिकोण मिला।

नई शिक्षा नीति के प्रस्ताव की सराहना की

बैठक में प्रो. हर्ष सिन्हा द्वारा राष्ट्रीय शिक्षा नीति के क्रियान्वयन की जानकारी दी गई। अपर मुख्य सचिव ने कहा कि यह बहुत ही प्रासंगिक प्रस्ताव है। सुझाव दिया कि इस सेन्टर के अंतर्गत नई शिक्षा नीति के अंतर्गत पाठ्यक्रमों के डिजाइन का कार्य भी करना चाहिए। महायोगी गुरु श्रीगोरक्षनाथ शोध पीठ द्वारा आयोजित होने वाले अंतर्राष्ट्रीय कान्फ्रेंस तथा शोधपीठ के अंतर्गत प्रस्तावित नए पाठ्यक्रमों की प्रस्तुति प्रो. मानवेंद्र प्रताप सिंह द्वारा दी गई। विज्ञान संकाय द्वारा प्रस्तावित एडवांस मल्टीडिसीप्लिनरी इंस्टीट्यूट आफ साइंस एजुकेशन एंड रिसर्च की समीक्षा भी की। अधिष्ठाता छात्र कल्याण प्रो. अजय सिंह ने तीन फेलोशिप की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि पहली फेलोशिप स्पोर्ट्सपर्सन के लिए है। दूसरी पीएचडी विद्यार्थियों के लिए और तीसरी अंतरराष्ट्रीय विद्यार्थियों के लिए प्रस्तावित है। बैठक में समस्त संकायाध्यक्षगण, विभिन्न विभागाध्यक्षगण, प्रो. अजेय गुप्ता, प्रो. मानवेंद्र प्रताप सिंह, उच्च शिक्षा अधिकारी अश्विनी मिश्र, कुलसचिव डॉ. ओम प्रकाश, वित्त अधिकारी धर्मेन्द्र प्रकाश त्रिपाठी सहित शिक्षकगण एवं अधिकारीगण उपस्थित रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:DDU will design the course according to the new education policy