DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लखनऊ में प्लाट का सपना दिखाकर करोड़ों की ठगी

आर संस इन्फ्रा लैण्ड डेवलपर्स रियल इस्टेट कम्पनी ने लखनऊ में प्लाट का सपना दिखा कर जिले के 52 लोगों से 3.50 करोड़ रुपये की ठगी की है। पीड़ितों ने इस मामले में कम्पनी के एमडी सहित पांच लोगों के खिलाफ कैंट थाने में एफआईआर दर्ज कराई है। वहीं घटना के विरोध में रियल इस्टेट की एक दूसरी कम्पनी (जिसमें एक आरोपी काम करता है ) के आफिस पर पीड़ितों ने धरना प्रदर्शन भी किया।
शाहपुर थाना क्षेत्र के जेल रोड गुलाली वाटिका निवासी रेलवे के रिटायर्ड अधिकारी अमिय रमण ने एसएसपी डा. सुनील गुप्ता से प्लाट के नाम पर जालसाजी करने की शिकायत की थी। उन्होंने बताया कि बैंक रोड क्रास दी मॉल में आर संस इन्फ्रा लैण्ड डेवलपर्स का दफ्तर है। वहीं से गोरखपुर और आस-पास के रहने वाले पीड़ितों से  जालसाजी की गई है। कम्पनी ने 500 रुपये वर्ग फीट के रेट पर तीन साल पहले प्लाट बुक किया। उनके समेत सैकड़ों लोगों ने पैसा जमा कर दिया पर उन्हें अभी तक प्लाट नहीं मिला। जब वे अपना पैसा मांग रहे हैं तो उन्हें धमकी मिल रही है। 
एसएसपी के निर्देश पर कैंट पुलिस ने अमिय रमण सहित दस पीड़ितों की तहरीर पर विराट खण्ड गोमती नगर निवासी कम्पनी के एमडी आशीष कुमार श्रीवास्तव, सिहाइचपार हाटा बाजार निवासी प्रबंधक मुकेश शाही, बिछिया जंगल तुलसीराम निवासी सहायक प्रबंधक प्रियंका मिश्रा, विराट खण्ड गोमती नगर निवासी महाप्रबंधक तबस्सुम और प्रबंधक एचआर तरन्नुम के खिलाफ लोगों के साथ साजिश कर धोखाधड़ी के जरिये पैसा एंठने और धमकी, मारपीट सहित कई गंभीर धाराओं में केस दर्ज किया है। यहां बता दें कि कम्पनी के खिलाफ लखनऊ में भी विभिन्न थानों में पहले भी मुकदमें दर्ज हैं। गोरखपुर में यह पहला मुकदमा है।

लखनऊ में कम्पनी का यह है प्रोजेक्ट 
शिकायतकर्ता अमिय रमण ने बताया कि कम्पनी 2010 से देवा रोड पर जीवन दीप प्रोजेक्ट, सुल्तानपुर रोड गोसाईगंज क्षेत्र के मोहम्मदपुर गढ़ी निकट रहमतनगर रेलवे क्रासिंग पर फार्म हाउस एवं भूखण्ड प्रोजेक्ट तथा प्रखर सिटी 1, प्रखर सिटी 2 के नाम से प्रोजेक्ट पर काम करने का दावा करती रही है। गोरखपुर के बाघागाड़ा में भी उसने प्लाटिंग करने का दावा किया था।

पांच हजार लोगों से ठगी का दावा 
पीड़ितों का कहना है कि कम्पनी ने पांच हजार लोगों से 100 करोड से ज्यादा की ठगी की है। उनके पास गोरखपुर और आस-पास के 52 लोग अब तक सम्पर्क कर चुके हैं। ठगी के शिकार लोगों में रेलवे कर्मचारी, बैंक कर्मचारी, डॉक्टर सहित कई वर्ग के लोग हैं। ठगी के शिकार लोगों की संख्या लगातार बढ़ रही है। इनमें से कुछ लोगों ने  प्रोजेक्ट में प्लाट के लिए एक मुश्त तथा किश्तों में और एमआईएस के रूप में भुगतान किया है। 

यह किया था वायदा 
कम्पनी ने कहा था कि डामर रोड, बिजली, नाली पार्क आदि बनाकर कम्पनी देगी। पर तीन साल बीत जाने के बाद भी कम्पनी जिसे अपनी जमीन बताती थी वहां कोई डवलपमेंट नहीं है। जिन लोगों को कम्पनी ने रजिस्ट्री कर दी उन्हें भी कब्जा नहीं दिलाई जा रही है। पैसा मांगने पर शुरू में कम्पनी के एमडी ने कुछ लोगों को चेक दिया था पर वे सभी भी बाउंस हो गए।

पूर्व प्रबंधक मुकेश शाही के खिलाफ प्रदर्शन 
आर संस इन्फ्रा लैण्ड डेवलपर्स कम्पनी के प्रबंधक मुकेश शाही के खिलाफ पीड़ितों ने तारामंडल स्थित एक रियल इस्टेट के आफिस पर प्रदर्शन किया। मुकेश ने आर संस का काम छोड़कर दूसरी रियल इस्टेट कम्पनी में नौकरी शुरू कर दी है। पीड़ितों का आरोप है कि यह भी कम्पनी आर संस इन्फ्रा लैण्ड से ही जुड़ी हुई है। उनका आरोप है कि मुकेश सहित अन्य कर्मचारियों ने ही हमलोगों को गुमराह कर कम्पनी में पैसा जमा कराया। इनका आरोप है कि  लोगों की गाढ़ी कमाई लूट कर मुकेश ने यहां पैसा लगाया है। पीड़ितों ने कम्पनी के दफ्तर पर रविवार की दोपहर में प्रदर्शन कर अपना पैसा लौटाने की मांग की। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Crores of Thugs by Plots Dream in Lucknow