DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

13 हजार किसानों के फसल बीमा प्रीमियम ‘गायब’

जिले में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तकरीबन 13 हजार किसानों का फसल बीमा प्रीमियम ‘गायब’ हो गया है। बैकों की लापरवाही के कारण 15 अगस्त तक योजना के अंतर्गत 13213 किसानों के हिस्से का प्रीमियम काटे जाने के बाद भी PMFBY.GOV.IN पोर्टल पर डाटा अपलोड नहीं किया गया। ऐसे में आपदा आने पर ये किसान फसल बीमा का लाभ लेने से वंचित रह जाएंगे। 

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना
16787 पीएमएफबीवाई पोर्टल पर सिर्फ किसानों का डाटा अपलोड
30 हजार से अधिक किसानों के केसीसी से काटा गया बीमा शुल्क
15 अगस्त तक ही पोर्टल पर अपलोड किया जाना था बीमित किसानों का विवरण

किसान क्रेडिट कार्ड पर बैंक किसान को फसल में खाद, पानी डालने के लिए बैंक कर्ज देते हैं, इसलिए अनिवार्य रूप से उनके खाते से उनके रकबे के आधार पर फसल बीमा का प्रीमियम काट लेते हैं। इस साल किसान क्रेडिट कार्डधारी 30 हजार किसानों का खरीफ के लिए बीमा प्रीमियम काट कर बीमा कंपनी को भेजा गया। लेकिन बैंकों की लापरवाही के कारण पोर्टल पर सिर्फ 16787 किसानों का ही डाटा अपलोड हुआ। ऐसे में 13213 किसानों का डाटा केंद्र को मिला नहीं, इसलिए सरकार के हिस्से का प्रीमियम बीमा कंपनी तक पहुंचा ही नहीं। हालांकि 2332 ऐसे किसान हैं जिनकी केसीसी नहीं है लेकिन उन्होंने बीमा कराया है। ऐसे किसानों का डाटा पोर्टल पर अपलोड है। सनद रहे कि रबी सीजन में गोरखपुर जिले के 40 हजार किसानों को फसल बीमा हुआ था। 31 जुलाई तक प्रीमियम राशि काटनी थी, 15 अगस्त तक पोर्टल पर अपलोड करना था।

खरीफ में प्रति हेक्टेयर 984 रुपये किसान अंश
किसानों को खरीफ की फसल के लिए प्रति हेक्टेयर फसल बीमा के लिए दो फीसदी प्रीमियम और रबी की फसल के लिए 1.5 फीसदी प्रीमियम का भुगतान करना पड़ता है। शेष बीमा प्रीमियम केंद्र एवं प्रदेश सरकार भरती हैं। खरीफ में प्रति हेक्टेयर में किसान का अंश 984 रुपये है, जिससे 49200 रुपये का फसल बीमा मिलता है।

‘‘31 जुलाई तक प्रीमियम राशि काटनी थी, 15 अगस्त तक पोर्टल पर अपलोड करना था। सम्पूर्ण डाटा तकनीकी कारणों से अपलोड नहीं हो पाया है। डाटा अपलोड करने के लिए तारीख बढ़ेगी।’’
राम आधार गुप्ता, लीड बैंक मैनेजर 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Crop insurance premium of 13 thousand farmers missing