DA Image
22 सितम्बर, 2020|7:49|IST

अगली स्टोरी

 स्वच्छ समाज समृद्ध राष्ट्र का आधार: योगी आदित्यनाथ

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि स्वच्छ समाज समृद्ध राष्ट्र का आधार है, यही सोच कर ब्रहमलीन महंत दिग्विजयनाथ एवं ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ ने स्वच्छता को अपने जीवन का ध्येय बनाया। दोनों महंतों के जीवन दृष्टि में स्वच्छता और शुद्धता को साफ तौर पर देखा जा सकता है। सीएम ने कहा कि साफ-सफाई केवल सरकार का काम नहीं बल्कि व्यक्ति, परिवार और समाज की भी जिम्मेदारी है। हर इकाई को इस अभियान के साथ जुड़ना होगा। समूह भाव से किया गए कार्य से न केवल बेहतर परिणाम मिलेगा बल्कि श्रेष्ठ जीवन का मार्ग भी प्रशस्त करेगा। स्वच्छ भारत से ही स्वस्थ्य भारत की परिकल्पना साकार होगी।


संगोष्ठी
- महंत दिग्विजयनाथ व अवेद्यनाथ की पुण्यतिथि समारोह के दूसरे दिन संगोष्ठी में बोले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ
-बोले, स्वच्छ भारत से साकार होगी स्वस्थ्य भारत की परिकल्पना
- ‘स्वच्छ भारत अभियान एवं हमारा स्वास्थ्य’ विषय पर आनलाइन संगोष्ठी को संबोधित किया मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मंगलवार को ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ एवं ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ की पुण्यतिथि समारोह के दूसरे दिन आनलाइन संगोष्ठी में जुड़े। ‘स्वच्छ भारत अभियान एवं हमारा स्वास्थ्य’ विषय पर आयोजित संगोष्ठी में उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रेरणा से सरकार के स्वस्थ भारत मिशन से स्वस्थ्य और सुंदर समाज का निर्माण हो रहा है। स्वच्छ भारत मिशन के चलते ही वैश्विक महामारी कोरोना को भी नियंत्रित करने में हम सफल हो सके हैं। इसी अभियान की मदद से इंसेफेलाइटिस और एक्यूट इंसेफेलाइटिस पर लगाम लगा। स्वच्छता के अध्यात्मिकता से जुड़ाव की चर्चा करते हुए सीएम ने कहा कि भारत की ऋषि परंपरा से लेकर वर्तमान सरकार तक स्वच्छता को जीवन का हिस्सा बनाने की कोशिश कर रही है।  महात्मा गांधी ने तो अपनी सम्पूर्ण कार्य पद्धति में स्वच्छता और संयम को महत्व दिया। इसके लिए जन-जन को प्रेरित किया। ऐसे में समाज को स्वच्छ बनाने में सभी को अपनी भूमिका सुनिश्चित करनी होगी तभी पूरा समाज स्वस्थ हो सकेगा।  
एक समृद्ध व सशक्त भारत के निर्माण प्रयास
मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि केंद्र एवं प्रदेश की सरकार स्वच्छ भारत मिशन से एक समृद्ध व सशक्त भारत के निर्माण का भागीरथ प्रयास कर रही हैं। व्यक्तिगत और पारिवारिक जीवन में स्वच्छता के प्रयास के साथ-साथ खुले में शौच से समाज को मुक्त किया गया है। छह वर्ष में 10 करोड़ से अधिक शौचालय का निर्मित किए गए। यह सिर्फ रिकार्ड नहीं बल्कि मानव गरिमा और स्वच्छता के प्रति सरकार की प्रतिबद्धता का परिचायक भी है। इसके माध्यम से चर्मरोग और विषाणुजनित तमाम रोगों को नियंत्रित करने में सफलता हासिल हुई हैं। 
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Clean society is the basis of a prosperous nation: Yogi Adityanath