ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश गोरखपुरहवा में ‘जहर घोलने वाले 738 अवैध भट्ठों की बुझेंगी चिमनियां

हवा में ‘जहर घोलने वाले 738 अवैध भट्ठों की बुझेंगी चिमनियां

गोरखपुर, कार्यालय संवाददाता। गोरखपुर मंडल की हवा में जहर घोलने वाले अवैध ईंट-भट्ठों...

हवा में ‘जहर घोलने वाले 738 अवैध भट्ठों की बुझेंगी चिमनियां
हिन्दुस्तान टीम,गोरखपुरFri, 01 Mar 2024 10:15 AM
ऐप पर पढ़ें

गोरखपुर, कार्यालय संवाददाता।
गोरखपुर मंडल की हवा में जहर घोलने वाले अवैध ईंट-भट्ठों की चिमनियां बुझेंगी। मंडल में 738 ईंट-भट्ठों को क्षेत्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और प्रशासन ने अवैध घोषित कर रखा है। इनके पास ईंट भट्ठा चलाने की एनओसी क्षेत्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से नहीं मिली है। सरकारी आंकड़े के हिसाब से सबसे अधिक देवरिया में 226 और सबसे कम महराजगंज में 103 अवैध ईंट भट्ठे हैं। अब इन ईंट भट्ठों की नए सिरे से क्षेत्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और प्रशासन की टीम जांच करेगी।

ईंट भट्ठों की चिमनी जलाने का समय फरवरी और मार्च के बीच होता है। इन ईंट भट्ठों को चलाने के लिए सबसे जरूरी है क्षेत्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से एनओसी लेना। अगर किसी भट्ठे के पास एनओसी नहीं है तो वह ईंट भट्ठा अवैध की श्रेणी में आता है। इसे लेकर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने नियम भी सख्त कर दिए हैं। आंकड़ों के अनुसार प्रदूषण विभाग की ओर से एनओसी न मिलने के कारण गोरखपुर मंडल के देवरिया, महराजगंज, कुशीनगर और गोरखपुर में 738 ईंट भट्ठे अवैध हो चुके हैं। इनमें सबसे अधिक 226 अवैध भट्ठे देवरिया, गोरखपुर में 215, कुशीनगर में 194 और महराजगंज में 103 हैं।

इन भट्ठों की सूची क्षेत्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने जिला प्रशासन को सौंपते हुए इन्हें पूरी तरह से बंद कराने के निर्देश दिए थे। हालांकि प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड का दावा है कि सभी अवैध भट्ठे पूरी तरह से बंद हैं। लेकिन, फरवरी और मार्च में चिमनी जलाने का समय होता है कि ऐसे में इन अवैध भट्ठों की जांच कराई जाएगी कि कही ये चोरी छिपे चल तो नहीं रहे हैं। इस काम में प्रशासन की भी मदद ली जाएगी।

क्या है नियम

क्षेत्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड अवैध भट्ठों को वायु प्रदूषण नियंत्रण अधिनियम 1981 की धारा 31ए के तहत बंद कराया है। अगर ये भट्ठे चलते हुए पकड़े जाते हैं तो इन पर जुर्माना के साथ कानूनी कार्रवाई का प्रावधान है।

जिला वैध भट्ठे अवैध भट्ठे कुल भट्ठे

गोरखपुर 227 215 442

महराजगंज 180 103 283

कुशीनगर 109 194 303

देवरिया 121 226 347

बोले अधिकारी

मंडल में 738 अवैध भट्ठे चिह्नित किए गए हैं। इन अवैध भट्ठों को क्षेत्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की तरफ से एनओसी नहीं दी गई है। ये एनजीटी के मानकों पर खरे भी नहीं हैं। ऐसे भट्ठों की जांच की जाएगी कि कहीं ये चल तो नहीं रहे हैं। इसकी सूची भी प्रशासन को सौंपी गई है।

- अनिल कुमार शर्मा, क्षेत्रीय पर्यावरण अधिकारी

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें