Can encephelaitis treated by Electric Rays - इंसेफेलाइटिस: क्‍या बिजली की तरंगों से होगा इलाज! DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इंसेफेलाइटिस: क्‍या बिजली की तरंगों से होगा इलाज!

इंसेफेलाइटिस का इलाज बिजली के झटके से हो सकता है। इसके लिए मरीज को नियंत्रित झटका देना पड़ेगा। इस विधि से इंसेफेलाइटिस समेत 10 प्रकार के वायरस से होने वाली बीमारियों का इलाज हो सकता है। यह दावा किया है जर्मनी के वैज्ञानिक स्टीफेन ने। शनिवार को उन्होंने बीआरडी मेडिकल कालेज के बालरोग विभाग के डॉक्टरों के सामने अपने मशीन का परीक्षण किया। वैज्ञानिक के दावे पर बीआरडी के डॉक्टर भी भरोसा नहीं जता रहे हैं। जर्मनी के बीगेन शहर से आए प्रो. स्टीफेन बीआरडी के डॉक्टरों के सामने विद्युत तरंगों से इलाज करने वाली मशीन स्ट्रीमडिग का प्रदर्शन किया। उन्होंने दावा किया कि इस मशीन से जापानी इंसेफेलाइटिस, इंट्रोवायरस, साइटोमेंगालो, मेनेन्जाइटिस, पोलियो व रैबीज समेत एक दर्जन बीमारियों के वायरस का इलाज हो सकता है। बैट्री से चलने वाली इस मशीन से दो तार जुड़े हैं। इन तारों के जरिए कमर और कंधे पर नियंत्रित बिजली का झटका दिया जाता है। जर्मन वैज्ञानिक का दावा है कि नियंत्रित तरंग से शरीर के अंदर मौजूद वायरस निष्क्रिय हो जाते हैं। बीआरडी के डॉक्टरों के सामने जर्मन वैज्ञानिक ने एक मरीज पर मशीन का प्रयोग किया। मरीज की जांच के बाद जर्मन वैज्ञानिक ने दावा किया कि उसे रैबीज है। जबकि परिवारीजनों का कहना है कि मरीज को कभी किसी जानवर ने नहीं काटा। वैज्ञानिक के दावे की तस्दीक के लिए मरीज के खून का नमूना डॉक्टरों ने जांच के लिए भेज दिया। वार्ड 100 बेड के डॉ. कफील अहमद खान ने बताया कि चिकित्सा विज्ञान इस पर भरोसा नहीं कर सकता। इसके बावजूद हम उनके मशीन का परीक्षण करेंगे। इस मशीन से परीक्षण से मरीजों को कोई खतरा नहीं है। परीक्षण के परिणाम की रिपोर्ट जर्मन वैज्ञानिक को भेजेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Can encephelaitis treated by Electric Rays