DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नियमित रक्तदान से स्वस्थ्य रहता है शरीर

1 / 2

blood donation

2 / 2blood donation

PreviousNext

भारतीय संस्कृति में दान का बहुत महत्व है। सबसे श्रेष्ठ दान अपने शरीर से कुछ अर्पित करना है। रक्तदान को महादान माना गया है। शरीर में निरंतर रक्त का निर्माण होता रहता है। उसके दान से रक्त की कमी नहीं होती, वरन् पुराना रक्त निकाला जाता है। शुद्ध ताजा खून उसकी जगह लेता है। शुक्रवार को स्थानीय बलदेव प्लाजा,गोलघर में रोटरी क्लब गोरखपुर युगल द्वारा गुरु गोरक्षनाथ चिकित्सालय के सहयोग से आयोजत रक्तदान शिविर का आयोजन हुआ। शिविर के मुख्य अतिथि 66 बार रक्तदान कर चुके सरदार जसपाल सिंह रहे। 56 बार रक्तदान कर चुके और आज 57 वीं बार रक्तदान करते हुए कार्यक्रम संयोजक और वरिष्ठ होम्योपैथिक चिकित्सक डॉ.रूप कुमार बनर्जी ने रक्तदान के महत्व को बताया। अध्यक्ष रो.रविन्द्र अग्रवाल ने सामाजिक कार्यक्रमों के लिए क्लब की प्रतिबद्धता प्रकट की। कहा कि रक्तदान, वृक्षारोपण, चिकित्सा शिविर का निरंतर आयोजन किया जाएगा। रो.अनुराग अग्रवाल ने गुरू गोरक्षनाथ चिकित्सालय के डॉक्टर्स और रक्तदाताओं के प्रति आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम में रो.अशोक अग्रवाल,रो.पूजा चांदवासिया, रो.सुधा मोदी,रो. रेबेखा अग्रवाल,रो.अशोक सुरेखा,  रो.संजय जायसवाल,प्रीति चांदवासिया, गजेन्द्र अग्रवाल,रविन्द्र बहादुर श्रीवास्तव,सुरेन्द्र शर्मा, बसंत अग्रवाल, चैताली बनर्जी,रमेश चंद्र गुप्ता समेत अन्य उपस्थित रहे। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Body remains healthy with regular blood donation