ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश गोरखपुरशरदकालीन गन्ना के साथ सब्जी मटर की खेती से पाए लाभ

शरदकालीन गन्ना के साथ सब्जी मटर की खेती से पाए लाभ

गोरखपुर। मुख्य संवाददाता शरदकाल में बोया गया गन्ना बसंतकाल में बोए गए गन्ने...

शरदकालीन गन्ना के साथ सब्जी मटर की खेती से पाए लाभ
हिन्दुस्तान टीम,गोरखपुरThu, 07 Dec 2023 10:00 AM
ऐप पर पढ़ें

गोरखपुर। मुख्य संवाददाता
शरदकाल में बोया गया गन्ना बसंतकाल में बोए गए गन्ने की उपज की तुलना में 20 से 25 प्रतिशत अधिक उपज देता है। लेकिन इस गन्ना की दो पंक्ति के बीच खाली स्थान में सब्जी मटर की दो या तीन पंक्ति बोकर मात्र 65 से 70 दिनों में किसान की आय करने लगेंगे। एक गन्ने के खेत में 18 से 20 क्विंटल सब्जी मटर हासिल कर सकते हैं जिसकी औसतन 20 से 25₹रुपये प्रति किलोग्राम कीमत बाजार में मिल जाती है।

उत्तर प्रदेश गन्ना किसान संस्थान प्रशिक्षण केंद्र पिपराइच गोरखपुर के सहायक निदेशक ओमप्रकाश गुप्ता ने कहा कि दाल वाली सब्जियों में मटर प्रमुख फसल है। दलहनी फसल होने के कारण खेत की उर्वरा शक्ति बढ़ती है। खरपतवारों का प्रभाव भी कम करता है। भारतीय दलहन अनुसंधान संस्थान कल्याणपुर कानपुर में किसानों के दल ने दाल का हमारे स्वास्थ्य पर प्रभाव एवं खेत की उर्वरा शक्ति बढ़ाने में योगदान विषय पर प्रशिक्षण भी लिया था।

मटर की ये प्रमुख प्रजातियां:

सब्जी मटर की प्रमुख प्रजातियां अर्किल, आजाद मटर- 1, आजाद मटर- 3, वीएल 7, मटर अगैता, गोल्डन आदि 65 से 70 दिनों में प्रथम तुड़ाई के लिए तैयार हो जाती हैं। गन्ने के साथ दलहन बोने पर किसानों को मटर पर अनुदान भी मिलता है। एक एकड़ मटर बोने में 25 से 30 किलोग्राम बीज इस्तेमाल होता है। गन्ने की प्रमुख प्रजातियां को लख 14201, को शा 13235, 9232, को 0118, को से 13452 है।

ऐसे तैयार करें खेत

गन्ने की दो पंक्ति के बीच खाली स्थान में 45 किलोग्राम डीएपी, 15 किलोग्राम पोटाश, 5 किलोग्राम सल्फर का प्रयोग कर मिट्टी में मिला दें। मटर की बुवाई पंक्ति से पंक्ति की दूरी 30 सेमी और बीज से बीज की दूरी 10 सेंटीमीटर रखें। 5 से 7 सेंटीमीटर गहराई पर बुवाई करें। बुवाई के 25 से 30 दिन पर निराई कर खरपतवारों को निकले। फूल आते समय हल्की सिंचाई करें। अधिक पानी नहीं चाहिए।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें