DA Image
7 मार्च, 2021|1:21|IST

अगली स्टोरी

10 लाख की जालसाजी के बाद खाली होने लगा बैंक का खजाना

10 लाख की जालसाजी के बाद खाली होने लगा बैंक का खजाना

पूर्वांचल बैंक के सात खातों से 10 लाख रुपये की जालसाजी के डरे खाताधारकों का विश्वास इस कदर डगमगाया कि उन्होंने धड़ाधड़ निकासी शुरू कर दी। अचानक बैंक का खजाना खाली होने लगा तो इससे परेशान बैंक प्रबंधन ने निकासी पर रोक लगाते हुए वरिष्ठ प्रबंधन के नेतृत्व में टीम बनाकर जांच बैठा दी है।

इस घटना के बाद क्षेत्रीय प्रबंधन ने पूर्वांचल बैंक की सभी शाखाओं के खातेधारकों को दूसरे बैंक के ग्राहक सेवा केन्द्र से धन निकासी पर रोक लगा दी। साथ ही शाखा के सभी 8000 खातेदारों के खाते से भी निकासी पर रोक लगा दी है। बहुत जरूरी होने पर खाताधारकों की पहचान की पुष्टि होने के बाद उनसे आवेदन लेने के बाद खाते का लॉक खोलकर रकम दी जा रही है।

नवम्बर व दिसम्बर-19 व जनवरी-20 के पहले सप्ताह में जालसाजों ने पूर्वांचल बैंक जैतपुर शाखा के सात खातेदारों के खाते से 10 लाख रुपये निकाल लिए। कस्बे के श्रवण जायसवाल के खाते से 9 जनवरी की शाम 50 हजार व अगले दिन सुबह 20 हजार रुपए निकलने का मैसेज मिला। कस्बे की राजकुमारी देवी के खाते से 1.74 लाख रुपए निकल गए। यह पैसा अलग-अलग तारीख में खाते से दूसरे के खाते में ट्रांसफार्मर किए गए। बैंक के मुताबिक इनके खाते से रुपये प्रतापगढ़ के ग्राहक सेवा केन्द्र से निकले थे।

क्षेत्र के सीयर गांव के जियावन मौर्य के खाते से 16 नवम्बर व 6 दिसम्बर के दौरान 1.89 लाख रुपये दूसरे के खाते में ट्रांसफर हुए। ग्राम अमटौरा के विनय सिंह के खाते से 70 हजार रुपये भी निकल गए। जनवरी के पहले सप्ताह में कस्बे के मोतीचंद के खाते से भी 50 हजार व सुरेश चंद के खाते से 40 हजार रुपये निकल गए।

परेशान खाताधारकों ने किया प्रदर्शन : खाताधारकों के खाते से लगातार रुपये निकलने से परेशान खाताधारकों ने बैंक शाखा पर प्रदर्शन कर बैंक प्रबन्धक व कर्मचारियों पर लापरवाही का आरोप लगाया। खाताधारकों के विरोध प्रदर्शन व खाते से पैसा गायब होने की खबर चर्चा में आने के बाद बैंक के दूसरे खाताधारकों में भी खलबली मच गई। वे भी अपने खाते से रुपये निकाल कर दूसरे बैंक में जमा करने लगे। धीरे-धीरे ऐसे खाताधारकों की संख्या 600 से अधिक होने से बैंक शाखा का खजाना खाली होने लगा।

बैंक ने बनाई जांच कमेटी : बैंक प्रबंधन ने आनन-फानन में जांच कमेटी बनाई। अवकाश से लौटे क्षेत्रीय प्रबंधक ने पीड़ित खाताधारकों से मुलाकात की। आश्वासन दिया कि सभी का पैसा वापस मिल जाएगा। उन्होंने पुलिस से भी बातचीत की। क्षेत्रीय प्रबंधक के मुताबिक पुलिस ने साइबर क्राइम का मामला बताकर पल्ला झाड़ लिया। इसके बाद उन्होंने अपने स्तर से जानकारी जुटानी शुरू की।

चार खाताधारकों ने बैंक के खिलाफ दर्ज कराया केस

पूर्वांचल बैंक शाखा जैतपुर के चार खाताधारकों ने बैंक के खिलाफ घोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कराया। पुलिस ने बैंक से पूछताछ करने के बाद साइबर क्राइम का मसला बताकर फाइल को ठंडे बस्ते में डाल दिया। क्षेत्रीय प्रबंधक एसएन सिंह के मुताबिक खाताधारकों के खाते से अलग-अलग ग्राहक सेवा केन्द्र से रुपये निकाले गए। एक खाताधारक के खाते से पैसा हैदराबाद के ग्राहक सेवा केन्द्र से निकाला गया। वहां तक पुलिस ही पहुंच सकती है।

शिकायत करने पर 1.40 लाख रुपये वापस आए

पूर्वांचल बैँक के क्षेत्रीय प्रबंधक एसएन सिंह ने बताया कि पीड़ित खाताधारकों के मसले की जांच के दौरान संज्ञान में आया कि दूसरे राज्य के ग्राहक सेवा केन्द्र से पैसा निकला है। पुलिस के हाथ खड़े करने पर उन्होंने नेशनल पेमेंट कारपोरेशन ऑफ इण्डिया को दस्तावेज भेजकर शिकायत दर्ज कराई। जांच पड़ताल के बाद एनपीसीआई ने 1.40 लाख रुपये वापस कराए। क्षेत्रीय प्रबन्धक एसएन सिंह ने कहा कि सभी पीड़ित खाताधारकों का पैसा जांच-पड़ताल के बाद वापस दिलाने का प्रयास होगा।

पीड़ितों को भेजा जा रहा नोटिस

क्षेत्रीय प्रबंधक ने बताया कि अन्य पीड़ितों के मामले में ग्राहक सेवा केन्द्र दावेदारी कर रहे हैं कि खाताधारकों ने अंगूठा लगाकर पैसा लिया है। हमने सभी को नोटिस भेजकर ग्राहक सेवा केन्द्र के दावे पर स्पष्टीकरण मांगा है। इसमें रामजियावन को भी 20 हजार का नोटिस भेजा गया है। क्योकि भीटीरावत स्थित आईसीआईसीआई बैंक के ग्राहक सेवा केन्द्र का दावा है कि उन्होंने अंगूठा लगाकर 20 हजार रुपये निकाले है।

दूसरे बैंकों के ग्राहक सेवा केन्द्र से निकासी पर रोक

पूर्वांचल बैंक के खाताधारकों के पास इन्टरनेट बैंकिंग की सुविधा नहीं है। जैतपुर शाखा की घटना के बाद बैंक प्रबंधन ने सभी शाखाओं के खाते से दूसरे बैंकों के ग्राहक सेवा केन्द्र से निकासी पर रोक लगा दी। ताकि किसी और शाखा में इसतरह की जालसाजी न होने पाए।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Bank treasury started emptying after forgery of 10 lakhs