DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संतकबीरनगर में बंद समर्थकों ने फूंका पुतला, जमकर जताया गुस्‍सा

केन्द्र सरकार द्वारा एससीएसटी एक्ट में किए गए संशोधन के विरोध में गुरुवार को आयोजित भारत बंद के आह्वान पर संतकबीरनगर में सवर्ण संगठनों ने बंद कराया। जगह-जगह जुलूस निकाल कर नारेबाजी की। बालूशासन में मार्ग जाम किया तो बघौली में प्रधानमंत्री का प्रतीकात्‍मक पुतला फूंका। प्रदर्शन के बाद राष्ट्रपति को सम्बोधित ज्ञापन सौंपा। 

भारत बंद के आह्वान पर सवर्ण संगठनों के लोग गुरुवार को सुबह दस बजे से खलीलाबाद के सुगर मिल चौराहे पर एकत्र होना शुरू हुए। विरोध जता रहे लोग यहां से दुकानें बंद कराते हुए बाईपास के लिए निकले। नारेबाजी करते हुए जुलूस निकाला। जैसे-जैसे जुलूस आगे बढ़ा विरोध जताने वालों की संख्या बढ़ती गई। प्रदर्शनकारियों को देखकर दुकानें अपने आप बंद होने लगीं। बैंक चौराहा, गोलाबाजार होते हुए प्रदर्शनकारी मेंहदावल बाईपास चौराहे पर पहुंचे। यहां हुई जनसभा को सम्बोधित कर वक्ताओं ने केन्द्र सरकार से किए गए संशोधन को वापस लेने की मांग की। सभा के बाद राष्ट्रपति को सम्बोधित ज्ञापन एसडीएम को सौंपा। 

बघौली के बालूशासन पुल पर जुटे युवाओं ने मेंहदावल रोड को जाम कर दिया। इससे गाड़ियों का लम्बा जाम लग गया। मौके पर पहुंची पुलिस ने जाम खुलवाया। इसके बाद युवाओं ने बघौली कस्बे में पहुंच कर पुलिस प्रशासन व प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर पुतला दहन किया। बखिरा बाजार में एससीएसटी एक्ट के विरोध में युवा व व्यवसायी सड़क पर उतरे। प्रदर्शन करते हुए  लोगों ने दुकानों को बन्द कराया। बंद में अखिल भारतीय ब्राह्मण एकता परिषद, सवर्ण एकता परिषद, परशुराम सेना, अखिल भारतीय ब्राह्मण महासभा, राष्ट्रीय सवर्ण सेना व अन्य संगठन के सदस्य शामिल रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Band Supporters burnt statue in Santkabiranagar