DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गोरखपुर शहर में गैस पाइपलाइन बिछाने को मांगी इजाजत 

पाइप्ड नेचुरल गैस (पीएनजी) को लोगों के घरों की रसोई तक पहुंचाने के लिए टोरेंट गैस प्राइवेट लिमिटेड ने लोक निर्माण विभाग से पाइप लाइन बिछाने की अनुमति मांगी है। कंपनी ने लोक निर्माण को दिए गए प्रस्ताव में बताया है कि वह खानीपुर से गेल की पाइप लाइन से गैस लेंगे। खानीपुर से नौसढ़ होते हुए शहर में पाइप लाइन लाएंगे। लोक निर्माण विभाग समेत अन्य विभागों से एनओसी मिलने के बाद पाइप लाइन डालने का कार्य शुरू होगा।

गैस अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (गेल) वाराणसी से गोरखपुर खाद कारखाने तक गैस पाइपलाइन बिछा रहा है। पाइप लाइन बिछाने का कार्य आखिरी चरण में है। ‌उम्मीद है कि वाराणसी से गोरखपुर तक गैस पाइप लाइन में गैस की आपूर्ति जून मध्य तक शुरू हो जाएगी। चूंकि खाद कारखाने की शुरूआत 2020 में होनी हैं, ऐसे में टोरेंट गैस इसका इस्तेमाल पहले से ही शुरू कर सकती है। जल्द ही गेल और टोरेंट के बीच कीमत को लेकर संविदा की प्रक्रिया भी पूर्ण की जानी है। गेल से प्राकृतिक गैस लेकर टोरेंट गोरखपुर, संतकबीरनगर, कुशीनगर में पीएनजी और सीएनजी स्टेशन के लिए पाइपलाइन से गैस पहुंचाएगी। खानीपुर के पास से गेल की पाइपलाइन से जोड़ कर टोरेंट अपनी पाइपलाइन बिछाएगा। अन्य जिलों के बजाए सबसे पहले सीएम सिटी के घरों को पीएनजी आपूर्ति से जोड़ने के साथ 18 सीएनजी स्टेशन खोलने की योजना बनाई गई है। 

दूसरा सीएनजी स्टेशन शुरू
नौसड़ स्थित कमला मोटर्स पेट्रोल पंप पर भी शुक्रवार को सीएनजी गैस मिलनी शुरू हो गई। पाइपलाइन बिछाए जाने तक टोरेंट, वाराणसी से यहां सीएनजी सड़क परिवहन के जरिए उपलब्ध कराएगा। इसके पूर्व 30 मार्च को कंपनी ने चंद्रा पेट्रोल पंप पर शहर का पहला सीएनजी स्टेशन खोला था। आचार संहिता खत्म होने के बाद जल्द ही मण्डल आयुक्त की अध्यक्षता में आरटीए की बैठक होगी जिसमें जिसमें सीएनजी किट बदलने और सीएनजी वाहनों के पंजीकरण को लेकर निर्णय लिए जाएंगे। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Asked permission for Gas pipeline in Gorakhpur