ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश गोरखपुरआशुतोष तिवारी का शव देख बिलख पड़े परिजन

आशुतोष तिवारी का शव देख बिलख पड़े परिजन

गोरखपुर। मुख्य संवाददाता मंगलवार की देर शाम 7.15 बजे एम्बुलेंस से कांग्रेस के महानगर...

आशुतोष तिवारी का शव देख बिलख पड़े परिजन
आशुतोष तिवारी का शव देख बिलख पड़े परिजन
हिन्दुस्तान टीम,गोरखपुरWed, 26 Jun 2024 02:45 AM
ऐप पर पढ़ें

गोरखपुर। मुख्य संवाददाता
मंगलवार की देर शाम 7.15 बजे एम्बुलेंस से कांग्रेस के महानगर अध्यक्ष आशुतोष त्रिपाठी का शव बड़गो स्थित उनके आवास पहुंचा वहीं।। हादसे में घायल हुई उनकी दोनों बेटियां अदिति और उन्नति भी आईं। वहां मौजूद परिजन दहाड़े मारकर चिल्लाने लगे। कांग्रेसियों की आंखे भी नम हो गईं। बताया जा रहा है कि देर रात तक उनकी पत्नी रंजना तिवारी भी गोरखपुर लाई जाएंगी। आशुतोष का शव बुधवार को उनका ननिहाल ककरही ले जाया जाएगा। अंतिम संस्कार गोला सरयू तट पर किया जाएगा।

आशुतोष का शव गोरखपुर पहुंचने के बाद दिलीप निषाद, दयानन्द सिंह दुसाध, सैय्यद आफताब आलम, आलोक शुक्ल, डॉ भानु प्रताप सिंह, राजेश तिवारी, संजय कुमार सिंह, नवीन सिन्हा, डॉ दानपाल सिंह, गोरखलाल श्रीवास्तव, जयनारायण शुक्ल, सिविल कोर्ट बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष कृष्ण विहारी दूबे, दिनेश चंद्र श्रीवास्तव, ज्ञान पाण्डेय, विवेक श्रीवास्तव, विनोद जोजफ, दिलीप पांडेय, अर्जुन शाही, तेज नारायण श्रीवास्तव, विनोद कुमार पांडेय एडवोकेट, प्रणव उपाध्याय, जितेंद्र विश्वकर्मा, नागेन्द्र प्रताप सिंह मुन्ना, इंद्रजीत सिंह लीडर, नरेंद्रजीत सिंह, धर्मेंद्र सिंह ने पहुंचकर श्रद्धांजलि अर्पित की। वहीं जिला कैंप कार्यालय मियां बाजार में महानगर कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष आशुतोष त्रिपाठी की सड़क दुर्घटना में निधन पर दो मिनट का मौन रख ईश्वर से प्रार्थना की गई। कांग्रेसियों ने दिवंगत आत्मा की शांति एवं परिजनों को असीम दुख सहने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना की।

सपाइयों ने भी जताया दुख

कांग्रेस के महानगर आशुतोष तिवारी के निधन पर समाजवादी पार्टी के नेताओं ने दुख जताया है। सपा नेता इम्तियाज अहमद, आफताब अहमद व राघवेंद्र तिवारी ने कहा कि लोस चुनाव में इण्डिया गठबंधन के तहत चुनाव प्रचार के कई कार्यक्रमों में उनकी सहभागिता रही। वह सरल एवं मृदुल स्वभाव के कारण सभी से घुलमिल गए थे। सपा के कार्यकर्ताओं का उनसे भावात्मक लगाव हो गया था।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।