ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश गोरखपुरजन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र के लिए दौड़ लगा रहे आवेदक

जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र के लिए दौड़ लगा रहे आवेदक

गोरखपुर, मुख्य संवाददाता। जन्म प्रमाण पत्र और मृत्यु प्रमाण पत्र के लिए 800 से...

जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र के लिए दौड़ लगा रहे आवेदक
हिन्दुस्तान टीम,गोरखपुरWed, 21 Feb 2024 10:45 AM
ऐप पर पढ़ें

गोरखपुर, मुख्य संवाददाता। जन्म प्रमाण पत्र और मृत्यु प्रमाण पत्र के लिए 800 से अधिक आवेदक नगर निगम कार्यालय से सदर तहसील कार्यालय तक दौड़ लगा रहे हैं। लेकिन उनकी समस्याओं का समाधान होता नहीं दिख रहा है। पिछले दिनों एसडीएम सदर/ ज्वाइंट मजिस्ट्रेट मृणालिनी अविनाश जोशी ने तीन दिन में लंबित मामले निपटाने का दावा किया था, कुछ मामले निपटे भी लेकिन अब भी 700 से अधिक आवेदन लंबित है।
एक साल से अधिक उम्र के लोगों के जन्म प्रमाण पत्र के साथ ही मृत्यु के एक साल बाद प्रमाण पत्र के लिए आवेदन करने की दशा में एसडीएम की संस्तुति अनिवार्य किए जाने के बाद ही लंबित आवेदनों की संख्या बढ़ने लगी है। सोमवार की देर शाम नगर आयुक्त गौरव सिंह सोगरवाल ने लंबित आवेदनों की समीक्षा की थी। उन्होंने पाया कि अकेले नगर निगम में जन्म और मत्यु के प्रमाण पत्र के 178 आवेदन लंबित हैं। इसके अलावा नगर निगम से सदर तहसील में भेजे गए 700 आवेदन लंबित हैं। इन लंबित आवेदनों में कुछ ऐसे हैं जिनके लिए दिसंबर माह के प्रथम सप्ताह में आवेदन किया गया था उसके बाद भी निस्तारित नहीं हो सके।

समीक्षा के दौरान नगर आयुक्त ने जन्म मृत्यु प्रमाण पत्र के काउंटर को संभालने वाले कर्मचारियों को सख्त हिदायत दी कि चार दिन में सभी लंबित आवेदनों का निस्तारण करें। यह भी निर्देश दिया कि वे तहसील सदर को भी रिमाइंडर करें। उधर, ज्वाइंट मजिस्ट्रेट एसडीएम सदर मृणाली अविनाश जोशी ने कार्य भार संभालने के बाद चार फरवरी को तब तक लंबित मामलों का निस्तारण तीन दिन में करने का निर्देश दिया था। लेकिन पांच कंप्यूटर आपरेटर अब तक 50 आवेदनों का ही निस्तारण कर सके हैं। पूर्व उपसभापति पार्षद ऋषि मोहन वर्मा ने भी पिछले दिनों यह मामला उठाया था। महापौर डॉ. मंगलेश श्रीवास्तव ने जिलाधिकारी को पत्र लिखकर एसडीएम सदर के यहां फंसे जन्म मृत्यु प्रमाण पत्र पर नाराजगी व्यक्त की थी।

नगर निगम में लंबित जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र के आवेदनों के निस्तारण के लिए चार दिन की मोहलत दी है। समीक्षा में निगम में 178 आवेदन और तहसील में 700 आवेदन लंबित मिले हैं। जिलाधिकारी से वार्ता कर इनका निस्तारण होगा। - गौरव सिंह सोगरवाल, नगर आयुक्त

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें