DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गोरखपुर के आलोक तिवारी को आईएएस की परीक्षा में 562 वीं रैंक

शहर के नंदानगर निवासी आलोक तिवारी को आईएएस की परीक्षा में 562 वीं रैंक मिली है। बीटेक, एमबीए आलोक को यह सफलता दूसरे प्रयास में हासिल हुई है। तीन साल पहले जीजा, दीदी व माता पिता की प्रेरणा से उन्होंने मल्टीनेशनल कंपनी की नौकरी छोड़ कर तैयारी शुरू की थी। दिल्ली में दो साल से रह कर तैयारी कर रहे आलोक ने हिन्दुस्तान को बताया कि उनकी स्कूलिंग गोरखपुर के केन्द्रीय विद्यालय से हुई। इसके बाद वह बीटेक करने के लिए नोएडा चले गए। बीटेक कंप्यूटर साइंस की डिग्री हासिल करने के बाद उन्होंने देहरादून से 2010 में एमबीए किया। अगले ही साल उनकी नौकरी चेन्नई की एक मल्टीनेशनल कंपनी में लग गई। इस बीच बड़ी दो बहनों की शादी हो गई। जीजा, दीदी व जीजा के बड़े भाई हेमंत मिश्रा उन्हें लगातार इस बात के लिए प्रेरित करते रहते थे कि आईएएस बनो। बाकी नौकरियों में कुछ नहीं रखा है। आर्मी में लेफ्टिनेंट के पद से रिटायर पिता रामनाथ तिवारी भी यह बात कहा करते थे। लिहाजा उन्होंने 2014 से आईएएस की तैयारी शुरू की। पहले साल चेन्नई में रहकर की नौकरी के साथ तैयारी की। बाद में नौकरी छोड़ कर दिल्ली आ गए और आईएएस का सपना पूरा करने में जुट गए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Alok tiwari got 562 rank in IAS