DA Image
29 जनवरी, 2020|1:54|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अखिलेश ने दिखाई ईमानदारी, पेश की नैतिकता की मिसाल

अखिलेश ने दिखाई ईमानदारी, पेश की नैतिकता की मिसाल

पर्स में एक-दो नहीं बल्कि 25,000 रुपये थे। तीन एटीएम कार्ड थे। डीएल और पैनकार्ड भी था। सब कुछ लावारिस पड़ा था। अखिलेश को जब लावारिस पड़ा यह पर्स मिला तो वहां कोई मौजूद भी नहीं था पर अखिलेश ने ईमानदारी की मिसाल पेश की। पर्स से मिले मोबाइल नम्बर पर फोन कर न केवल उन्होंने उसके मालिक का पता पूछा बल्कि उनके घर जाकर सब कुछ लौटा दिया। पर्स मालिक ने उन्हें इनाम देना चाहा तो उन्होंने यह कहते हुए इनकार कर दिया कि यह उनका फर्ज था।

पूर्वोत्तर रेलवे कर्मचारी संघ के संयुक्त महामंत्री और राप्तीनगर फेज 4 कल्याण महाशक्ति के सचिव कौशल कुमार सिंह गुरुवार की सुबह 7 बजे रुपये निकालने एटीएम बूथ पर गए थे। उन्होंने 25 हजार रुपये निकाले और पर्स में रख लिया। वह घर पहुंचे तो उनकी जेब से पर्स गायब था। पर्स में उन्होंने तीन एटीएम कार्ड, डीएल, पैनकार्ड, आधार कार्ड और जरूरी कागजात रखे थे। उन्होंने घर से निकलकर रास्ते में कुछ देर तक ढूंढा लेकिन पर्स कहीं नहीं मिला।

कौशल कुमार सिंह थक-हारकर घर पहुंचे और मायूस होकर बैठ गए। उन्होंने मान लिया कि अब उनके रुपये और कागजात नहीं मिलेंगे। इसी बीच उनके मोबाइल पर फोन आया। फोन करने ने अपना नाम अखिलेश कुमार प्रजापति निवासी पोखरभिंडा करीम नगर बताया। उसने बताया कि रास्ते में उसे एक पर्स गिरा मिला है। अगर पता बता दें तो वह उनके घर पहुंचकर पर्स लौटा देगा। कौशल ने अपने घर का पता बताया। कुछ देर बाद युवक उनके घर पहुंचा। पर्स थमाया और यह कहते हुए खड़ा हो गया कि वह देख लें कि उनके पर्स में सब कुछ है न। कौशल की आंखें भर आईं। पर्स में 25,000 रुपये और सभी कार्ड थे। उन्होंने अखिलेश को साधुवाद देते हुए कुछ इनाम देने की मंशा जाहिर की। अखिलेश ने यह कहकर इनकार कर दिया कि वह उसे अपमानित न करें। उनके रुपये थे जो उसने लौटा दिए।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: Akhilesh showed honesty set example of morality