ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश गोरखपुरफर्जी आयकर अफसरों के गिरोह में झंगहा का भी एक युवक

फर्जी आयकर अफसरों के गिरोह में झंगहा का भी एक युवक

गोरखपुर। वरिष्ठ संवाददाता स्पेशल 26 फिल्म की तर्ज पर आयकर अधिकारी बनकर छापा...

फर्जी आयकर अफसरों के गिरोह में झंगहा का भी एक युवक
default image
हिन्दुस्तान टीम,गोरखपुरSun, 16 Jun 2024 12:00 PM
ऐप पर पढ़ें

गोरखपुर। वरिष्ठ संवाददाता
स्पेशल 26 फिल्म की तर्ज पर आयकर अधिकारी बनकर छापा डालने के दौरान पकड़े गए तीन जालसाजों को पुलिस ने जेल भिजवा दिया। वहीं, पूछताछ में आरोपियों ने झंगहा के एक युवक का भी नाम उगला है, जिसकी तलाश में पुलिस टीम लगी है। आरोपियों ने व्हाट्सएप से उस युवक से बातचीत भी की थी, लेकिन पुलिस के हाथ लगने से पहले चैट को डिलीट कर दिया गया था। पुलिस उसे रिकवर करने की कोशिश कर रही है।

जानकारी के मुताबिक, एम्स थाना क्षेत्र के कुसम्ही बाजार में रहने वाले भजनलाल सिंघड़िया स्थित एक कंपनी के एजेंट हैं। यह कंपनी लोगों को काम के सिलसिले में विदेश भेजती है। उनका कुसम्ही में दो मंजिला मकान है। जिसके ऊपरी मंजिल में सिपाही अनिल गुप्ता किराये पर रहते हैं। शुक्रवार सुबह करीब 8 बजे चार लोग एक लग्जरी कार से भजनलाल के घर पहुंचे। कार के अगले हिस्से पर आयकर विभाग, भारत सरकार लिखा था। खुद को आयकर अधिकारी बताते हुए एक ने कहा कि तुम्हारे खिलाफ शिकायत है, हमें घर की तलाशी लेनी है। लेकिन इसी दौरान सिपाही को संदेह हो गया और तीन आरोपी पकड़ लिए गए।

पकड़े गए आरोपियों की पहचान राजेश कुमार, उपेंद्र पांडेय और नवाजिश अली के रूप में हुई। राजेश फर्जी अधिकारी बना था, वह मूल रूप से गोरखपुर के महादेवा बाजार का रहने वाला है और इस समय दिल्ली रहता है। दिल्ली में आफिस भी बना रखा है। उपेंद्र बिहार का जबकि नवाजिश नोएडा की खोड़ा कालोनी का रहने वाला है। बरामद गाड़ी उपेंद्र की बताई जा रही है। अब इनसे पूछताछ के आधार पर पुलिस जांच कर रही है। प्रभारी निरीक्षक संजय कुमार सिंह ने बताया कि आरोपियों को कोर्ट में पेश कर जेल भिजवा दिया गया है। अन्य आरोपियों के भूमिका की जांच की जा रही है।

कई प्रदेश में जालसाजी के शक पर चल रही जांच

राजेश के भाई ने बताया कि वह भी दिल्ली रहता था। 15 दिन पहले गांव आया था। दस दिन पहले उसकी भाई से बात हुई थी। भाई के अनुसार यह उसकी पहली वरदात है। वहीं पुलिस सूत्रों के अनुसार इनका एक गिरोह है जिनका ऑफिस दिल्ली में है। ये गिरोह बिहार, दिल्ली, गाजियाबाद, झारखण्ड, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, मध्यप्रदेश सहित अन्य राज्यों में वरदात अंजाम दे चुके हैं। पुलिस अन्य वारदतों को तस्दीक करने के लिए वहां की पुलिस से सम्पर्क कर रही है। पुलिस के मुताबिक राजेश इनकम टैक्स अधिकारी बना था। बाकी दो कर्मचारी व एक चालक बना था। राजेश ने बताया कि उनलोगों ने स्पेशल 26 फिल्म देखी थी जहां से उन्हें इस तरह की जालसाजी का आइडिया मिला।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।