DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इस विश्व पर्यावरण दिवस पर परिजनों की स्मृति में लगाए एक पौधा

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अगुवाई वाली सरकार ने इस विश्व पर्यावरण दिवस पर प्रदेश वासियों को अपने परिजनों की स्मृति पर पौधे लगाने का आह्वान किया है। यदि आपके पास पौधों की देखभाल करने के लिए समय और उन्हें लगाने के स्थान का अभाव है, तो चिंता करने की जरूरत नहीं है। पौधों की देखभाल वन विभाग के अधिकारी-कर्मचारी करेंगे, पौधे लगाने के लिए जमीन भी वही प्रदान करेंगे। यदि आप पौधों के साथ ट्री-गार्ड भी चाहते हैं, तो यह भी संभव है। इसके लिए सरकार ने एक व्यक्ति-एक वृक्ष योजना लागू की है। इस योजना का हिस्सा सरकारी कर्मचारी एवं प्रत्येक नागरिक स्वेच्छा से बन सकता है।


ऐसे शामिल हो इस योजना में 
इस योजना में सहभागिता के लिए गंगा सेवा मोबाइल एप विकिसत किया गया है। इसकी सहायता से कोई भी व्यक्ति गंगा हरितमा अभियान के लिए विकिसत की गई बेबसाइट्स gangaseva.upsdc. gov.in पर अपना पंजीकरण करा सकता है। एक वृक्ष के लगाने में औसत खर्च 150 रुपया आएगा। इसके अलावा यदि आप अपनी पसंद के स्थल पर पौधा लगाने और पौधे की सुरक्षा के लिए आयरन ट्री-गार्ड भी चाहते हैं तो 2000 रुपये प्रदान करने होंगे। शुल्क जमा करने के लिए वन एवं वन्यजीव विभाग की संस्था सेंटर फार ट्रेनिंग एण्ड मैनेजमेंट आफ स्वाएल, वाटर एण्ड फारेस्ट कानपुर स्थित इलाहाबाद बैंक किदवई नगर शाखा में खाता संख्या 50205176968, आईएफसीकोड ALLA0212164 में जमा कर सकते है। इसके बाद विभाग वृक्ष लगाने की सभी औपचारिकताएं पूर्ण कर वृक्ष लगाएगा।

सहायता को यहां करें संपर्क
पौधरोपण के रजिस्ट्रेशन के लिए में आने वाली दिक्कतों के समाधान के लिए वन विभाग ने सहायता डेस्क भी बनाई है। जारी मोबाइल नंबर 9648485690 और 8868833347 पर समस्या समाधान पा सकते हैं। 

इसलिए जरूरी है पौधारोपण
550 लीटर शुद्ध आक्सीजन एक दिन में लेता है मनुष्य
70 वर्ष औसत आयु मान ली जाए तो हर साल 2 लाख लीटर आक्सीजन चाहिए
01 करोड़ 4 लाख लीटर पूरे जीवन काल में चाहिए
08 वृक्ष प्रत्येक मनुष्य को हर साल अपनी भविष्य की पीढ़ी के लिए लगाना चाहिए

विनोद वन के पास 10 हेक्टेयर में बनाया जाएगा स्मृति वन 
वन विभाग ने गोरखपुर में रामगढ़ कक्ष संख्या 5 विनोद वन विहार के समीप 10 हेक्टेयर भूमि चिन्हित की है। उप प्रभागीय वन अधिकारी टीएन सिंह कहते हैं इस स्मृति वन में 11 हजार पौधे लगाए जा सकेंगे। मण्डल आयुक्त अनिल कुमार ने भी सभी जिलाधिकारियों को पत्र लिख कर राजकीय कर्मचारियों की स्वेच्छा से भागीदारी कराने के लिए पत्र लिखा है। 

दिक्कत: कही जमीन नहीं तो चिन्हित करने का प्रयास
शासन ने प्रत्येक जिले में 10 हेक्टेयर में स्मृति वन लगाने का लक्ष्य दिया है। गोरखपुर और बस्ती मण्डल के कई जिलों में जमीन की अनुपलब्धता अभियान में रोड़ा बन रही है। देवरिया रामपुर कारखाना विकास खण्ड के पिपराईच में एक हेक्टेयर भूमि चिन्हित है तो महराजगंज, संतकबीरनगर, सिद्धार्थनगर, बस्ती में जमीन नहीं मिली। कुशीनगर में सिर्फ दो हेक्टेयर भूमि स्मृति वन के लिए उपलब्ध है।

संकल्प पत्र भरिए
आम नागरिकों को वृक्षारोपरण के लिए प्रेरित करने के लिए वन विभाग संकल्प पत्र भी भरा रहा है। डीएफओ एक के जानू कहते हैं कि यह एक सुअवसर भी है कि प्रकृति जिससे हम अनवरत लाभ पाते हैं। पौधारोपण कर प्रकृति के प्रति कृतज्ञता प्रकट कर सकें। संकल्प पत्र भरने वाले अपनी निजी भूमि पर पेड़ लगाएंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:A plant planted in memory of family on this World Environment Day