DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › गोरखपुर › सीएम योगी की पहल पर टेराकोटो शिल्पकारों को तोहफा
गोरखपुर

सीएम योगी की पहल पर टेराकोटो शिल्पकारों को तोहफा

हिन्दुस्तान टीम,गोरखपुरPublished By: Newswrap
Sun, 01 Aug 2021 04:02 AM
सीएम योगी की पहल पर टेराकोटो शिल्पकारों को तोहफा

गोरखपुर। मुख्य संवाददाता

एक जिला एक उत्पाद योजना में शामिल टेराकोटा के उद्यमियों के लिए अच्छी खबर है। सीएम योगी की पहल पर गोरखपुर में कॉमन फैसिलिटी सेंटर (सीएफसी) के निर्माण के लिए केंद्र सरकार ने 2.83 करोड़ रुपये की कार्ययोजना को मंजूरी प्रदान कर दी है। उम्मीद है कि जल्द ही गोरखपुर में टेराकोटा के लिए एक और सीएफसी को मंजूरी मिल जाएगी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गोरखपुर के टेराकोटा माटी शिल्प की ब्रांडिंग को और मजबूत करने में जुटे हैं। सीएफसी निर्मित होने से टेराकोटा शिल्पियों को एक ही छत के नीचे गुणवत्ता जांच, प्रशिक्षण, पैकिंग समेत सभी जरूरी सुविधाएं मिलने लगेंगी। इससे टेराकोटा के बाजार का और विस्तार भी होगा। गोरक्षनगरी के औरंगाबाद समेत गिनती के कुछ गांवों से निकल कर टेराकोटा आज वैश्विक पहचान बन चुका है।

मुख्यमंत्री बनने के बाद योगी आदित्यनाथ ने ओडीओपी में गोरखपुर के पहले उत्पाद के रूप में टेराकोटा को शामिल किया। इसके बाद से तो टेराकोटा शिल्प को पंख लग गए। कई शिल्पी तो अब लाखों का कारोबार करते हैं। दिवाली के समय लखनऊ में लगे शिल्प मेले में गोरखपुर के कुछ टेराकोटा शिल्पियों के हुनर और टर्नओवर की चर्चा सीएम योगी कई मंचों से कर चुके हैं। योगी सरकार के प्रयास से टेराकोटा को जीआई टैग भी मिल चुका है जिस कारण इस शिल्प देश को बौद्धिक संपदा अधिकार का संरक्षण मिलने के साथ ही कानूनी पहचान भी मिली है।

पादरी बाजार में बनेगी सीएफसी

सीएफसी पादरी बाजार क्षेत्र में निर्मित किया जाएगा। इसके निर्माण से प्रत्यक्ष रूप से 500 लोगों को रोजगार मिलेगा। करीब 20-20 शिल्पियों का एक-एक क्लस्टर बनाया जाएगा। सीएफसी के संचालन का दायित्व टेराकोटा शिल्पकार ही संभालेंगे। 2.83 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाली सीएफसी में टेराकोटा शिल्पियों को तमाम सुविधाएं मिलेंगी। सीएफसी में मिट्टी की टेस्टिंग, उत्पाद के रंग-रोगन, पैकेजिंग आदि की जानकारी, ट्रेनिंग देने के साथ आधुनिक मशीनों से युक्त लैब बनाई जाएगी। यहां इलेक्ट्रिक, और गैस की भट्ठी, इलेक्ट्रिक व सोलर चाक, मिट्टी गुंथने की मशीन, डाई (सांचा) समेत टेराकोटा उत्पाद तैयार करने के लिए अन्य सभी उपकरण भी उपलब्ध रहेंगे। उत्पादों के भंडारण के लिए गोदाम एवं विक्री के लिए शोरूम भी बनाया जाएगा।

संबंधित खबरें