DA Image
24 फरवरी, 2020|6:14|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सर्वर से गायब हो गईं 700 जिंदगियां और मौतें

सर्वर से गायब हो गईं 700 जिंदगियां और मौतें

नगर निगम के जन्म-मृत्यु पंजीकरण कार्यालय के सर्वर से 700 से अधिक जिंदगियां और मौतें गायब हो गई है। चार दिनों तक सर्वर में गड़बड़ी के चलते ऐसा हुआ है। सर्वर की गड़बड़ी दूर होने के बाद शुक्रवार को कुछ के डाटा रिकवर हुए हैं। शेष आवेदनों का डाटा नये सिरे से फीड किया जा रहा है। ऐसे में तमाम लोगों को नगर निगम का चक्कर लगाना पड़ रहा है।

नये साल के पहले दिन से नगर निगम की ओर से जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र आनलाइन जारी किया जा रहा है। आवेदक द्वारा फार्म में दी गई जानकारी को फीड करते हैं। इसके बाद आनलाइन ही प्रमाण पत्र भी जारी कर दिया जाता है। पिछले दिनों सर्वर में आई खराबी के कारण कई दिनों तक जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र जारी नहीं किया जा सका था। सर्वर में आई खराबी को जब दूर कर लिया गया तो दूसरी समस्या सामने आ गई। कर्मचारी जब डाटा रिकवर करना शुरू किये तो पता चला कि 4 फरवरी से 7 फरवरी तक का डाटा नहीं रिकवर हो पा रहा है। शुक्रवार को करीब 200 आवेदकों का डाटा रिकवर हो गया है। हालांकि इनमें कुछ के नाम, पता में कुछ अक्षर गायब हो गये हैं। कार्यालय के कर्मचारी गायब अक्षरों को नये सिरे से फीड करा रहे हैं। उपसभापति अजय राय का कहना है कि लोगों की दिक्कत नहीं हो इसे देखते हुए पांच कर्मचारियों को फीडिंग के काम पर लगाया गया है। शुक्रवार की शाम तक अधिकांश फीडिंग हो चुकी थीं।

स्कूलों में एडमिशन लेने वालों को सर्वाधिक दिक्कत

जन्म प्रमाण पत्र नहीं बनने से सर्वाधिक दिक्कत स्कूलों में प्रवेश को लेकर हो रही है। मियाबाजार निवासी मनीष कुमार ने बताया कि बेटे का एडमिशन सिविल लाइंस के एक स्कूल में कराना है। सात दिन से प्रमाण पत्र के लिए दौड़ लगा रहा है। सर्वर की गड़बड़ी बताकर लौटा दिया जा रहा है। वहीं मेडिकल कॉलेज निवासी बुद्धेश्वर अपने ससुर के मृत्यु प्रमाण पत्र के लिए दौड़ रहे हैं। बुद्धेश्वर का कहना है कि प्रमाण पत्र नहीं बनने से बैंक का काम नहीं हो पा रहा है। उसी के बाद फेमिली पेंशन का काम भी होगा। वहीं नसीराबाद निवासी रियाज को पासपोर्ट बनवाने के लिए जन्म प्रमाण पत्र की जरूरत है।

अब जन्म और मृत्यु प्रमाणपत्र का काम केन्द्रीयकृत व्यवस्था के तहत हो रहा है। जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र सीआरएस के सर्वर पर बनता है। इसमें तकनीकी दिक्कत से 700 से अधिक लोगों का डाटा गायब हो गया था। कुछ के डाटा रिकवर हो गए हैं। शेष का डाटा फीड किया जा रहा है। अधिकतर के डाटा फीड हो गए हैं। स्कूलों में प्रवेश लेने वाले मामलों में प्राथमिकता दी जा रही है।

डॉ.मुकेश रस्तोगी, नगर स्वास्थ्य अधिकारी

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:700 lives and deaths disappeared from server