DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गोरखपुर मण्डल के 42476 किसानों का पीएम किसान डाटा होगा दुरुस्त

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली केंद्र सरकार ने पीएम किसान योजना का दायरा बढ़ाते हुए जोत की बाध्यता समाप्त कर 31 जुलाई तक राज्यों से सभी पात्र किसानों की सूची मांगी है। दूसरी ओर ऐसे लाभार्थी जिनका डाटा लोकसभा चुनाव की आचार संहिता जारी होने के पूर्व पीएम किसान पोर्टल पर अपलोड किया गया था, लेकिन कुछ खामियों के कारण ऐसे किसानों के खाते में धनराशि नहीं जा सकी, अगले शुक्रवार तक खामियां दूर करने के निर्देश दिए हैं। गोरखपुर मण्डल में ऐसे 42476 किसानों की सूची प्रेषित की गई है।

मुख्य सचिव अनूप चंद्र पाण्डेय ने सोमवार को प्रदेश भर के अधिकारियों की वीडियों कांफ्रेसिंग में 48-48 घंटे के 5 चरणों में जिलावार उपलब्ध कराए गए डाटा को संशोधित कर प्रेषित करें। सनद रहे कि जिलों से लाभार्थियों को मिले आंकड़ों को राज्य की ओर से पांच चरणों में पीएफएमएस को प्रेषित किया गया था। संयुक्त कृषि निदेशक डॉ ओमबीर सिंह के मुताबिक मण्डल के 42476 शासन स्तर से प्रेषित किया गया है। इसमें गोरखपुर के 10301, महराजगंज के 11002, देवरिया के 9761 और कुशीनगर के 1112 किसानों के डाटा है। इनमें नाम की स्पेलिंग, बैंक एकाऊंट नम्बर में गड़बड़ी सरीखी छोटी खामिया है जिसके कारण प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की धनराशि स्थानांतरित नहीं हो पा रही है।

सभी तहसीलों में सत्यापन के लिए भेजा डाटा

गोरखपुर मण्डल की सभी तहसीलों में सत्यापन के लिए सोमवार को ही डाटा प्रेषित किया गया था। जिसके सत्यापन का कार्य शुरू हो गया है। गोरखपुर सदर तहसीलदार डॉ संजीव दीक्षित ने कहा कि मंगलवार तक प्रथम चरण में गोरखपुर जिले से 2512 किसानों के डाटा की ऋटियां दूर की जानी है। इस बात का भी ध्यान रखा जाएगा कि लाभार्थियों के बैंक खाते बचत या जनधन खाते होने चाहिए। इसका उद्देश्य यह है कि चालू खाता और लोन वाले खातों में पैसा जाते ही बैंक उसे अपने उधारी में समायोजित कर सकते हैं।

31 जुलाई तक सभी किसानों का सत्यापन कर डाटा होगा अपलोड

केंद्र सरकार ने योग्य लाभार्थी किसानों की पहचान और उनके आंकड़े को पीएम-किसान पोर्टल पर अपलोड कराने के लिए 31 जुलाई तक लक्ष्य दिया है। ताकि संशोधित योजना के अनुरूप 100 प्रतिशत योग्य लाभार्थियों की सूची तैयार की जा सके। ताकि किसान इस योजना का लाभ उठा पाएं। हालांकि योजना के इस तीसरे चरण से आधार कार्ड अनिवार्य है। संयुक्त कृषि निदेशक डॉ ओमबीर सिंह कहते हैं कि ऐसे किसान जिनके पास आधार कार्ड नहीं है, तत्काल बना ले। यदि आधार कार्ड में कोई खामी है तो उसे दुरुस्त करा लें।

पीएम किसान योजना के लाभार्थियों पर एक नजर

जिला- कुल किसान-सत्यापित लघु-सीमांत किसान- पीएफएमएस प्रेषित डाटा- लाभार्थी-अवशेष किसान

गोरखपुर-473096-455585-251081-168182-304914

महराजगंज-386468-372157-286527-168182-218286

देवरिया-38968-375243-301754-221651-168033

कुशीनगर-462694-449501-348713-229479-233215

कुल-1711942-1652486-1188075-787494-924448

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:42 thousand farmers Data will be updated in Gorakhpur