DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › गोरखपुर › 104 साल के केएल गुप्ता भूख हड़ताल पर बैठे
गोरखपुर

104 साल के केएल गुप्ता भूख हड़ताल पर बैठे

हिन्दुस्तान टीम,गोरखपुरPublished By: Newswrap
Wed, 01 Sep 2021 04:50 AM
104 साल के केएल गुप्ता भूख हड़ताल पर बैठे

गोरखपुर। वरिष्ठ संवाददाता

पूर्वोत्तर रेलवे मजदूर यूनियन के महामंत्री 104 वर्ष के केएल गुप्त की जीवटता और जज्बे का जवाब नहीं। युवावस्था जैसा जोश और जज्बा अभी बरकरार है। इसी जज्बे के साथ श्री गुप्ता रेल चालकों के समर्थन में आ गए और ट्रॉली बैग दिए जाने के विरोध में मंगलवार को महाप्रबंधक कार्यालय के सामने उपवास पर बैठ गए। इस दौरान कई अफसरों ने उन्हें मनाने की कोशिश की लेकिन वह हिले तक नहीं। वहां आने वाले सभी अधिकारियों को सिर्फ एक जवाब...मेरी आंखिरी सांस इन्हीं कर्मचारियों के हित के लिए ही चलेगी। जब तक उनकी कठिनाइयों का समाधान नहीं हो जाता मैं पीछे हटने वाला नहीं।

केएल गुप्ता के उपवास को देख पूर्वोत्तर रेलवे की प्रमुख मुख्य परिचालन प्रबंधक भी उन्हें मनाने पहुंच गईं लेकिन उन्होंने अपना उपवास नहीं तोड़ा। उन्होंने कहा कि रेल चालकों को ट्रॉली बैग दिए जाने का फैसला वापस नहीं लिया गया तो एक दिन का उपवास आगे चलकर बेमियादी हो जाएगा।

दरअसल, रनिंग कर्मचारी बीते तीन दिन से डीजल लॉबी पर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। उन्हीं कर्मचारियों का साथ देने के लिए खुद केएल गुप्ता भी मैदान में आ गए। मंगलवार को उपवास पर बैठ गए। इस दौरान न उन्होंने अन्न ग्रहण किया और न ही जल। श्री गुप्ता ने कहा कि रेल चालकों के साथ तुगलगी व्यवहार किया जा रहा है। 15 से 20 किलो का सामान रखकर चालक ट्रॉली बैग को कैसे ले जाएगा। यह हम नहीं होने देंगे। हमें इसके लिए भले ही क्यों न अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल करनी पड़े। उन्होंने कहा कि अब एक बड़े आंदोलन की जरूरत है। इसके लिए आपको तैयार रहना होगा। एकता को बनाये रखें। हम सभी बुधवार को भी विरोध जताएंगे। शाम को सभा का आयोजन होगा जिसमें सभी विभागों के कर्मचारी आएंगे। इस अवसर पर नवीन कुमार मिश्रा, प्रदीप धर दूबे, ओंकार सिह, रामेश पाण्डेय, इंद्रेश, दया राम यादव, आशीष श्रीवास्तव, एमके. महाराज, एनके मेहरा, एसके जायसवाल, मनोज गुप्ता और आरिफ जामाल अंसारी मुख्य रूप से उपस्थित थे।

कोट

अमूमन 50 साल की उम्र के बाद अच्छी डाइट न मिले तो व्यक्ति धीरे-धीरे कमजोर होता चला जाता है। केएल गुप्ता को मैंने देखा है और कई बार चिकित्सकीय सलाह भी है। 104 साल की उम्र में बिना पानी और अनाज के रहना आश्चर्यजनक है। सामान्य स्थिति में इस अवस्था में किसी व्यक्ति को पूरा दिन पानी न मिले तो वह डीहाइड्रेशन का शिकार हो सकता है।

-डॉ. आरएन सिंह, वरिष्ठ फिजिशियन

संबंधित खबरें