DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दहेज हत्या में पति को 10 वर्ष की सजा

एडीजे प्रथम मदन लाल निगम की अदालत ने दहेज हत्या के मामले में पति को दस वर्ष सश्रम कारावास व पांच हजार रुपए अर्थदंड की सजा सुनाई है। अर्थदंड न अदा करने पर डेढ़ माह अतिरिक्त कारावास की सजा भुगतनी होगी। अदालत ने साक्ष्य के अभाव में सास, ससुर, जेठ सहित पांच को बरी कर दिया है। 
सहायक शासकीय अधिवक्ता राघवेश पांडेय ने अदालत को बताया कि गोरखपुर जिले के राजघाट थाना अंतर्गत बसंतपुर निवासी प्रेम कुमार गुप्त ने बेटी रेणुका की शादी पुरानी बस्ती थाना क्षेत्र के मंगल बाजार निवासी भागवत प्रसाद गुप्त के बेटे सुरेश के साथ पहली दिसंबर 2009 को किया था। दहेज में दो लाख नगद व कार की मांग को लेकर ससुराल पक्ष की ओर से बेटी को प्रताड़ित किया जा रहा था। 
29 दिसम्बर 2012 को पुरानी बस्ती पुलिस ने बेटी की आत्महत्या की सूचना दी। सूचना पर वह बस्ती आया तो उसे मालूम हुआ कि बेटी की हत्या की गई है। इस मामले में प्रेम कुमार की तहरीर पर पुलिस ने पति, ससुर, सास प्रेमा देवी, जेठ रमेश, जेठानी रानी देवी, देवर महेश व राकेश के खिलाफ दहेज हत्या का मुकदमा दर्ज कराया। राकेश को छोड़कर अन्य सभी के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया गया। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:10-year sentence for dowry murder