DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सहजनवां में ट्रेन से कटकर बुजुर्ग ने की आत्महत्या

default image

सहजनवां क्षेत्र स्थित भीमापार गांव के निवासी थे ओमप्रकाश

सहजनवां। हिन्दुस्तान संवाददाता

सहजनवां थाना क्षेत्र स्थित जोन्हिया गांव के समीप बुधवार की सुबह एक बुजुर्ग ने ट्रेन से कटकर जान दे दी। रेलवे गेटमैन की सूचना पर पहुंची सहजनवां थाने की पुलिस ने शव को कब्जे में ले लिया। बुजुर्ग की पहचान क्षेत्र के ही भीमापार गांव निवासी ओमप्रकाश शर्मा के रूप में हुई है।

बुधवार की सुबह जोन्हिया रेलवे ढाले से तकरीबन 200 मीटर दूरी पर एक बुजुर्ग खड़ा था। वह बार-बार रेलवे लाइन के बीच में जाकर दोनों तरफ देखता था और फिर दूर हट जाता था। इसी बीच खलीलाबाद की तरफ से तेज रफ्तार में आमप्राली एक्सप्रेस ट्रेन आती दिखी। उसे देखने के बाद बुजुर्ग रेलवे लाइन के नजदीक पहुंच गया। जैसे ही ट्रेन नजदीक पहुंची वह उसके आगे कूद गया। उसका शरीर क्षत-विक्षत हो गया।

थोड़ी दूरी पर स्थित रेलवे गेट पर तैनात कर्मचारी को किसी ने घटना की जानकारी दी। गेटमैन ने इस मामले से सहजनवां थाने की पुलिस को अवगत कराया। पुलिस तत्काल मौके पर पहुंच गई। पुलिस कर्मियों ने बुजुर्ग के कपड़ों की तलाशी ली तो उसमें एक सुसाइड नोट तथा कुछ अन्य कागजात मिले जिनके आधार पर उसकी पहचान सहजनवां थाना क्षेत्र के ही भीमापार गांव निवासी ओमप्रकाश के रूप में हुई। पुलिस ने कानूनी कार्रवाई पूरी कर उसका शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। ओमप्रकाश को दो पुत्र और 5 पुत्रियां हैं। उनकी पत्नी का पहले ही निधन हो चुका है।

...........

बेटे-बहू की प्रताड़ना से तंग ओमप्रकाश ने की आत्महत्या!

बुजुर्ग की जेब से मिला मुख्यमंत्री के नाम सुसाइड नोट, बेटे-बहू पर आरोप

सुसाइड नोट में ओमप्रकाश ने अपने दूसरे बेटे रघुनंदन को निर्दोष बताया

ओमप्रकाश ने लिखा है कि रघुनंदन ही उनकी सम्पत्ति का हकदार है

सहजनवां। हिन्दुस्तान संवाद

आम्रपाली एक्सप्रेस ट्रेन के आगे कूदकर आत्महत्या करने वाले बुजुर्ग ओमप्रकाश शर्मा की जेब से एक सुसाइड नोट मिला है। मुख्यमंत्री को सम्बोधित सुसाइड नोट में उन्होंने अपने बेटे और बहू पर प्रताड़ना का आरोप लगाया है। हालांकि उन्होंने अपने दूसरे बेटे को निर्दोष बताया है और लिखा है कि वही उनकी सम्पत्ति का हकदार है।

ओमप्रकाश शर्मा की जेब से पुलिस ने जो सुसाइड नोट बरामद किया है उसकी भाषा काफी टूटी फूटी है। उन्होंने सबसे ऊपर अपना नाम, पिता का नाम और पता लिखा है। इसके बाद उन्होंने लिखा है...श्रीमान मुख्यमंत्री महोदय, उत्तर प्रदेश। आगे लिखा है...अपना जीवन अंत करने के लिए।

ओमप्रकाश की जेब से मिले सुसाइड नोट की आगे की इबारत इस तरह है...

हमारा छोटा बेटा हर्षवर्धन अत्यंत क्रूर दिमाग का है। यह हमेशा हमको प्रताड़ित किया करता है। इसकी वीबी भी है जिसका नाम निशा है। वह भी प्रताड़ित किया करती है। न समय से खाना न पीना, इन लोगों का मेन मकसद खेतीबारी लेना है। अत: आप से निवेदन है कि हमारे न रहने पर इन दोनों पर कार्रवाई करें जिससे इनको सबक मिले। इनका एक सहयोगी गोविंद शर्मा है जो भीमापार सहजनवां का है। हमारे मरने में इसका पूरा हाथ है। सुसाइड नोट में आगे लिखा है..हमारे पुत्र रघुनंदन उर्फ सोनू के खिलाफ कुछ नहीं होना चाहिए। वह मेरी पूरी प्रापर्टी का हकदार होगा।

...

सुसासइड नोट में लिखी है जन्मतिथि

ओमप्रकाश शर्मा की जेब से मिले सुसाइड नोट में उनकी जन्मतिथि लिखी है। ओमप्रकाश (31-12-56) उम्र लिखा है।

...

ओमप्रकाश की जेब से आधार कार्ड भी मिला

घटनास्थल पर पहुंची सहजनवां पुलिस ने ओमप्रकाश की जेब से आधार कार्ड भी बरामद किया है।

...

10 वर्ष पूर्व कैंसर से हुई थी पत्नी की मौत

ओमप्रकाश शर्मा दिल्ली में नौकरी करते थे। तकरीबन 10 वर्ष पूर्व उनकी पत्नी को कैंसर हो गया। पत्नी की बीमारी की वजह से वे गांव आ गए और उनका इलाज कराने लगे। इलाज के दौरान उनकी पत्नी की मौत हो गई। इसके बाद वह नौकरी पर नहीं गए। ओमप्रकाश की पत्नी की मौत के बाद उनकी एक पुत्री की भी बीमारी से ही मौत हो गई। उनका एक बेटा और उसकी पत्नी गांव पर रहते हैं। बड़ा बेटा रघुनंदन उनके साथ नहीं रहता था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: