ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश गोंडाबिजली कर्मियों से एई स्तर तक फेरबदल की कुंडली तैयार

बिजली कर्मियों से एई स्तर तक फेरबदल की कुंडली तैयार

मध्यांचल की ओर से जोन से एक्सईएन स्तर की मांगी सूची तीन

बिजली कर्मियों से एई स्तर तक फेरबदल की कुंडली तैयार
default image
हिन्दुस्तान टीम,गोंडाSun, 23 Jun 2024 06:10 PM
ऐप पर पढ़ें

मध्यांचल की ओर से जोन से एक्सईएन स्तर की मांगी सूची

तीन दर्जन से अधिक कर्मियों व अभियंताओं के होंगे तबादले

गोण्डा, संवाददाता। बिजली विभाग में संविदा कर्मियों से लेकर उपखंड अधिकारी स्तर तक फेरबदल का खाका तैयार कर लिया गया है। देवीपाटन मंडल में करीब तीन दर्जन अभियंताओं व कर्मियों को चिह्नित किया गया है। तबादला नीति और नियमों के तहत इसी माह में तबादले किए जाएंगे, जिनमें अब हफ्ते भर का वक्त और बचा है। हालांकि मध्यांचल की ओर से जोन से एक्सईएन की सूची भी मांगी गई है।

कार्पोरेशन के मुख्य अभियंता दीपक अग्रवाल ने बताया कि जो एक्सईएन यहां कई वर्षों से तैनात है या विभिन्न डिवीजनों की चार्ज ग्रहण कर चुके हैं, उनके बाबत सूचनाएं भेजी जा रही हैं। वे सिर्फ एई स्तर तक ही फेरबदल जोन-स्तर पर कर सकते हैं। बिजली व्यवस्था की चुस्त दुरुस्त करने एवं तबादला नीतियों के तहत फेरबदल करना जरुरी माना जा रहा है। सूत्रों के मुताबिक विभाग में आधे दर्जन अभियंता वर्षो से जोन में कार्यरत होने से दायरे में आ रहे हैं। इनमें उपखंड अधिकारी व अवर अभियंताओं को उनके कार्यकाल के हिसाब से सूचीबद्ध किया गया है। इसी तरह कर्मियों की उनके पदों के हिसाब से सूची बनाई गई है। विभाग में सभी की निगाहें जोन कार्यालय की ओर टिक गई है। विभाग में बड़े पैमाने पर फेरबदल होने की सूचना से अभियंता व कर्मी हलकान भी है। हालांकि कार्पोरेशन के चेयरमैन के साथ वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए योजनाओं की समीक्षा के दौरान तबादला नीति को सख्ती से अनुपालन करने के निर्देश दिए हैं।

बाक्स

नीतियों के साथ राजस्व जुटाने के बीच उलझा है विभाग

प्रचंड गर्मी और उमस के बीच कटौती और दुश्वारियों को लेकर एक तरफ बिजली विभाग लोगो के निशाने पर है। वहीं तबादला नीतियों और राजस्व जुटाने को लेकर पूरा विभाग उलझा हुआ है। शहरी क्षेत्र के संवेदनशील बड़गांव इलाके में बीते एक वर्ष से अभी तक अवर अभियंता की व्यवस्था नहीं की जा सकी है। यहां के उपखंड अधिकारी संदीप कुमार का तबादला कर दिया गया है। मुख्यालय को ही देखें तो यहां छह उपकेन्द्रों की देखरेख महज तीन अवर अभियंताओं के द्वारा की जा रही है। मुख्य अभियंता ने बताया कि मध्यांचल से महीनों से उपखंड अधिकारी व अवर अभियंताओं की मांग की जा रही है, लेकिन मिल नहीं सके। इससे राजस्व अदायगी भी प्रभावित हो रही है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।