DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  गोंडा  ›  गोण्डा-बरसात में भी आंदोलन पर डटे किसान
गोंडा

गोण्डा-बरसात में भी आंदोलन पर डटे किसान

हिन्दुस्तान टीम,गोंडाPublished By: Newswrap
Wed, 16 Jun 2021 08:10 PM
गोण्डा-बरसात में भी आंदोलन पर डटे किसान

बालपुर।

बरसात में लोग अपने घरों में सुरक्षित हैं। लेकिन शिवशंकर पुरवा के किसान बारिश में भीगने को मजबूर हैं। धरनास्थल पर चारों तरफ से पानी ही पानी है। इसके बावजूद उनके हौंसले बुलंद हैं। वहीं प्रशासन मूकदर्शक बना हुआ है।

परसागोड़री के मजरे शिवशंकर पुरवा के किसान धनई पट्टी रजबहा नहर खुदाई के विरोध में रात दिन खेतों में इस बारिश के मौसम में आठ माह से धरना प्रदर्शन कर रहे हैं। वह नहर खुदाई का विरोध कर नये सर्किल रेट से मुआवजे की मांग कर रहे हैं। पुरूष व महिला किसानों को अब यह नहीं सूझ रहा कि आखिर वे अपनी दास्तान किसे सुनाएं। बेदर्द हाकिम के कानों में अभी तक उनके आंदोलन व मांग का कोई असर नहीं पड़ा है। धनई पट्टी रजबहा नहर की खुदाई में राधेश्याम, रंगनाथ, पृथ्वीनाथ, अर्जुन प्रसाद, कैलाश नाथ, रघुनाथ, सुषमा, कमलेश कुमार, राहुल, खुशी राम ज्ञानचंद, रामनेवल व रावेंद्र ने बताया कि विभाग बिना वाजिब मुआवजा व बैनामा के ही उनकी जमीन पर नहर खुदाई करवाने को अमादा है।

धनई पट्टी रजबाह नहर की खुदाई कर रहे किसान राधेश्याम, रंगनाथ, पृथ्वी नाथ, अर्जुन प्रसाद, कैलाश नाथ, रघुनाथ, सुषमा, कमलेश कुमार, राहुल, खुशी राम ज्ञानचंद, रामनेवल व रावेंद्र ने बताया कि विभाग बिना वाजिब मुआवजा व बैनामा के ही उनकी जमीन पर नहर खुदाई करवाने को अमादा है। जब तक उन्हें वाजिब मुआवजा नहीं मिल जाता, आन्दोलन करते रहेंगे।

खेतों में तोड़ देंगे दम : महिला किसान गुड़िया, रिंकी, व कमलेश, रघुनाथ, पृथ्वी नाथ, राधेश्याम, रंगनाथ आदि किसानों ने बताया कि संक्रामक बीमारियों के कारण किसानों की तबियत बिगड़ रही है। लेकिन प्रशासन की ओर से कोई खोज खबर नहीं ली गई है। किसानों ने कहा कि या तो उन्हें न्याय मिलेगा नहीं तो वह चाहे आंधी, पानी अथवा आफत आये वह वहां से डिगने वाले नहीं हैं। इसके लिए भले ही उन्हें अपनी जान क्यों न दे देनी पड़े। दम तोड़ देंगे लेकिन बिना वाजिब मुआवजे के जमीन नहीं देंगे।

संबंधित खबरें