ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश गाजीपुरलक्ष्य के सापेक्ष की गयी 7.81 लाख लोगों की स्क्रीनिंग

लक्ष्य के सापेक्ष की गयी 7.81 लाख लोगों की स्क्रीनिंग

गाजीपुर, संवाददाता। जिलाधिकारी आर्यका अखौरी के निर्देश पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा....

लक्ष्य के सापेक्ष की गयी 7.81 लाख लोगों की स्क्रीनिंग
हिन्दुस्तान टीम,गाजीपुरThu, 07 Dec 2023 12:00 AM
ऐप पर पढ़ें

गाजीपुर, संवाददाता।
जिलाधिकारी आर्यका अखौरी के निर्देश पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. देश दीपक पाल की अध्यक्षता में बुधवार को सीएमओ कार्यालय सभागार में राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यक्रम में बैठक हुई। जहां सीएमओ ने राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यक्रम और निक्षय पोषण योजना की जानकारी दी। बताया कि यह कार्यक्रम 23 नवंबर से पांच दिसंबर तक संचालित किया किया।

मुख्य चिकित्साधिकारी डा. देशदीपक पाल ने बताया कि आबादी लगभग 43.55 लाख के सापेक्ष सक्रिय क्षय रोगी खोज अभियान में लक्षित 20 प्रतिशत आबादी को कवर किया गया। करीब लक्षित 8.66 लाख लोगों की स्वास्थ्य टीम घर-घर जाकर स्क्रीनिंग की। इसमें कुल 267 टीमें तैनात की गई थीं। दस दिवसीय अभियान में टीम के लक्ष्य के सापेक्ष करीब 7.81 लाख लोगों की स्क्रीनिंग की गई। इसमें 2948 व्यक्तियों में टीबी के संभावित लक्षण पाये गए, जिन्हें जांच के लिए भेजा गया। इसमें सिर्फ 31 लोग पॉजिटिव पाये गए। 66 की पहचान क्लीनिकली और रेडियोलोजी से निदान किया गया। इस तरह कुल 101 टीबी रोगियों की पहचान सक्रिय टीबी रोगी खोज अभियान में की गई। इन सभी मरीजों का तत्काल नोटिफिकेशन करते हुये उपचार शुरू किया गया। इसके साथ ही इस वर्ष जनपद में जनवरी से अबतक 5711 लक्ष्य के सापेक्ष 4206 रोगियों (सरकार व निजी क्षेत्र) को नोटिफ़ाई किया गया। इसमें ड्रग सेंसेटिव टीबी मरीजों की संख्या 4108 और ड्रग रजिस्टेंट टीबी रोगियों की संख्या 98 है। इन सभी रोगियों का उपचार चल रहा है। इसके साथ ही उन्हें निक्षय पोषण योजना के तहत उपचार के दौरान हर माह 500 रुपये की आर्थिक मदद भी दी जा रही है। इस वर्ष अब तक जनपद की नोटिफिकेशन को लेकर उपलब्धि 74 फीसदी है। बताया कि जनपद में पिछले वर्ष जनवरी से नवंबर तक कुल 4299 टीबी रोगियों को नोटिफ़ाइ किया गया था। इसमें से 3776 टीबी रोगी का उपचार पूरा हो चुका है, जिसकी उपलब्धि 88 प्रतिशत है, शेष रोगी उपचार पर हैं। उन्होने क्षय रोग से संबन्धित सभी प्रकार की जांच, दवाइयां सभी सरकारी चिकित्सालयों में निःशुल्क मौजूद हैं। टीबी के नए मरीज को 500 रुपये प्रति माह अच्छे पोषण के लिए सरकार की ओर से दिये जा रहे हैं। निजी चिकित्सालयों में भी जिन टीबी मरीजों का इलाज चल रहा है, उन टीबी मरीजों को भी 500 रुपये सरकार की ओर से प्रदान किया जाना है। यदि कोई व्यक्ति नए क्षय रोगी की प्रथम सूचना देता है, तो उसे भी 500 रुपये प्रदान किया जायेगा।

जिला कार्यक्रम समन्वयक डा. मिथलेश कुमार ने बताया कि निक्षय पोषण योजना के तहत वर्तमान में 4734 पंजीकृत हुये हैं। इसमें से 4177 रोगियों की बैंक नाम पता प्राप्त हुईं हैं, जिसमें से 3865 रोगियों की जानकारी वैरिफाई हुई हैं। वर्तमान में 3473 टीबी रोगियों के खाते में लगभग 88.21 लाख रुपये का भुगतान किया जा चुका है। इस दौरान जिला क्षय रोग अधिकारी डा. मनोज कुमार सिंह, जिला पीपीएम समन्वयक एके पाण्डेय समेत अन्य अधिकारी व स्वास्थ्यकर्मी मौजूद थे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें