DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › गाजीपुर › बादलों की घेराबंदी में महज बूंदाबांदी, उमस बरकरार
गाजीपुर

बादलों की घेराबंदी में महज बूंदाबांदी, उमस बरकरार

हिन्दुस्तान टीम,गाजीपुरPublished By: Newswrap
Thu, 29 Jul 2021 03:22 AM
बादलों की घेराबंदी में महज बूंदाबांदी, उमस बरकरार

गाजीपुर। संवाददाता

मौसम परिवर्तन के क्रम में बुधवार को पूरे दिन उमस बना रहा। दोपहर में जिले भर में कहीं-कहीं महज कुछ समय के लिए बूंदाबांदी हुई, लेकिन फिर उमस ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया। हालांकि आसमान में बादलों के बने रहने से तपिश में कमी महसूस की गयी। बीच-बीच में थोड़ी देर के लिए सूर्य देव के दर्शन होते रहे, लेकिन आसमान में बादलों की अधिकता बनी रही। इसे लेकर तापमान में ज्यादा वृद्धि नहीं हुई है। बुधवार को अधिकतम तापमान 28 डिग्री तो न्यूनतम तापमान 26 डिग्री पर बना रहा। इधर मौसम विशेषज्ञों ने तो बारिश होने के संकेत दिये हैं, पर पूरे दिन बारिश के लिए लोग तरसते रहे।

बुधवार को जनपद के पश्चिमोत्तर क्षेत्रों में कहीं-कहीं बूंदाबांदी हुई है, लेकिन राहत नहीं मिल सकी, क्योंकि हवा के नहीं चलने से उमस बनी रही। वहीं मंगलवार की देर रात बारिश होने से सुबह कई जगह सड़कों पर जल जमाव का लोगों को सामना करना पड़ा। सावन माह शुरू होने पर भी बारिश का औसत काफी कम है। ऐसे में किसान वर्ग काफी परेशान नजर आने लगे हैं। बादलों की वजह से तपिश तो नहीं बढ़ी है, जिससे अभी भी नहीं बनी हुई और कुछ दिन पूर्व खेतों में की गयी सिंचाई से फसलों में ऊर्जा बनी हुई है। फिर भी जितनी बरसात होने उम्मीद थी, उतनी नहीं हो सकी। इस बार मानसून तो समय से पहले ही दस्ते दे दी, लेकिन अब सावन माह में भी खुलकर बारिश नहीं होना इस जनपद के किसान वर्ग के लिए चिंता का विषय बनता जा रहा है। जमानियां संवाद के अनुसार आसमान में बादलों के छाये रहने से आमजन ने राहत की सांस ली है, पर बारिश नहीं होने से किसान काफी चिंतित दिखने लगें हैं। क्षेत्रीय किसानों का कहना है कि जिन किसानों के पास पानी के संसाधन हैं, वह अपने खेतों में जैसे-तैसे धान की रोपाई कर ले रहे हैं, लेकिन जिन किसानों के पास संसाधन की कमी है। उनकी खेती भगवान भरोसे पर ही छोड़ दी गई है। क्षेत्र में अभी सैकड़ों बीघा खेत ऐसे हैं, जहां पानी का संसाधन न होने से धान की खेती नहीं हो सकी है। वह खेत अभी भी परती पड़े हुए हैं। बेमौसम बारिश ने किसानों को काफी नुकसान भी पहुंचाया है। इससे किसानों में पानी के लिए त्राहि-त्राहि मची है। वहीं दूसरी ओर मौसम का मिजाज खुशनुमा होने से आमजन को चिलचिलाती धूप से थोड़ी निजात जरूर मिल रही है।

संबंधित खबरें