DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › गाजीपुर › बेसो नदी में 42 घंटे बाद मिला एमआर का शव, परिवार में कोहराम
गाजीपुर

बेसो नदी में 42 घंटे बाद मिला एमआर का शव, परिवार में कोहराम

हिन्दुस्तान टीम,गाजीपुरPublished By: Newswrap
Wed, 07 Jul 2021 10:40 PM
बेसो नदी में 42 घंटे बाद मिला एमआर का शव, परिवार में कोहराम

सादात। हिन्दुस्तान संवाद

एसडीआरएफ की टीम ने वृंदावन के पास बेसो नदी में कूदकर आत्महत्या करने वाले एमआर विशाल सिंह का शव करीब 42 घंटे बाद पानी के अंदर से ढूंढ़ निकाला। नदी किनारे झाड़ी में फंसे शव को दो घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद खर पतवार को काटकर बाहर निकाला जा सका। शव को देखते ही स्वजनों की आंखें छलक उठी। काफी देर तक भुड़कुड़ा और बहरियाबाद थाना क्षेत्र के सीमा विवाद में उलझे शव को कब्जे में लेकर बहरियाबाद पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

बहरियाबाद थाना क्षेत्र के वृंदावन (कथकवली मौजा) निवासी स्व. अजय सिंह का पुत्र विशाल सिंह (25) सोमवार की शाम करीब सात बजे बाइक लेकर घर से निकला था। तालगांव और मीरपुर के बीच नटवाबीर बाबा मंदिर के पास पहुंचकर छलका पुल पर बाइक खड़ा करने और मोबाइल रखने के बाद उसने बेसो नदी में छलांग लगा दिया था। आत्महत्या की नीयत से बेसो नदी में उसे छलांग लगाते देखकर आसपास मौजूद लोग दौड़कर शोर मचाते मौके पर पहुंचे। ग्रामीणों ने उसे बचाने का काफी प्रयास किया, लेकिन वह नदी के पानी में डूब गया। सूचना पर पहुंची बहरियाबाद, भुड़कुड़ा और हुरमुजपुर चौकी पुलिस ने ग्रामीणों की मदद से पूरी रात काफी खोजबीन कराई, लेकिन कुछ भी पता नहीं चला। अगले दिन मंगलवार को सैदपुर से आये आधा दर्जन से अधिक गोताखोरों ने भी काफी खोजबीन की, लेकिन कोई सुराग नहीं मिला। पुलिस की रिपोर्ट पर जनपद स्तरीय अधिकारियों के प्रयास से बुधवार को करीब 11 बजे इलाहाबाद से राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (एसडीआरएफ) की टीम पहुंची। एसडीआरएफ टीम ने काफी दूर-दूर तक नदी के पानी में उसकी खोजबीन करने के बाद करीब एक बजे झाड़ियों के बीच उसके शव को ढूंढ़ निकाला। झाड़ियों को काटकर करीब तीन बजे शव को किसी तरह पानी से बाहर निकाला गया। शव को देखते ही उसके बड़े पिता विनोद सिंह, अखिलेश सिंह फफक पड़े। घटना के बाद से ही बहनें बुलबुल, शिल्पी, सपना और मां सीमा सिंह व अन्य परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। मृतक विशाल सिंह एक दवा कंपनी में मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव के पद पर जौनपुर जिले में कार्य करता था। वह अभी अविवाहित था। बताते हैं कि पिता अजय सिंह के निधन के बाद परिवार के भरण पोषण की जिम्मेदारी विशाल पर आ गयी थी। वह इन दिनों काफी कर्ज में डूबा था और यह दबाव झेल नहीं पाया। उधर बहरियाबाद थाना के प्रभारी निरीक्षक ईष्टदेव पाण्डेय ने बताया कि शव को पंचायतनामा की कार्रवाई पूर्ण कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।

संबंधित खबरें