DA Image
Saturday, November 27, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश गाजीपुरमेधावी छात्राओं ने संभाली अफसरों की कुर्सी, लिए फटाफट फैसले

मेधावी छात्राओं ने संभाली अफसरों की कुर्सी, लिए फटाफट फैसले

हिन्दुस्तान टीम,गाजीपुरNewswrap
Sat, 23 Oct 2021 03:11 AM
मेधावी छात्राओं ने संभाली अफसरों की कुर्सी, लिए फटाफट फैसले

गाजीपुर। हिन्दुस्तान संवाद

मिशन शक्ति के तहत शुक्रवार को स्कूल में पढ़ने वाली मेधावी बेटियों को कई महत्वपूर्ण विभागों में एक दिन का अधिकारी बनाया गया है। उन्हें वे सभी प्रोटोकॉल दिए गए जो अधिकारी को दिए जाते हैं। जिला प्रोबेशन अधिकारी बनी आयुषी सिंह इंटर की छात्रा हैं। पदभार मिलते हीं आयुषी सिंह ने फाइलों का निरीक्षण किया। दहेज के मामलों से संबंधित भी फाइल उनके सामने आई। जिसमें साल 2004 का एक शासनादेश है जिसमें सरकारी कर्मचारी या अधिकारी एक शपथ पत्र विभाग को देगा कि दहेज का लेन देन नहीं करेगा। ऐसे मामलों को गंभीरता सज्ञान लेने के लिए कर्मचारियों को निर्देशित भी किया। इसी दौरान एक वृद्ध भी पेश हुआ। उसकी समस्या को सुन तत्काल निस्तारण का निर्देश दिया। महिला कल्याण अधिकारी छात्रा अंजू कुशवाहा को बनाया गया। इन्हें भी पद भार ग्रहण कराने के बाद महिला कल्याण अधिकारी नेहा राय ने विभाग से संबंधित सभी अधिकारियों व कर्मचारियों से मिलवाकर परिचय कराया।

बाल संरक्षण अधिकारी बनीं काजल सिंह ने पदभार ग्रहण करते हीं कर्मचारियों से विभाग से जुड़ी फाइल मांगकर निरीक्षण किया। इस दौरान एक बालक को परिजन लेकर आए। 15 वर्षीय बालक लगातार घर से भाग जा रहा था। काजल सिंह ने उसे कुशल अधिकारी की तरह समझाया। उन्होंने बताया कि यह हमारे लिए खुशी का पल है कि हमें इस पद के लिए योग्य समझा गया। प्लेस आफ सेफ्टी अधीक्षक बनीं जिकरा खातून ने पद ग्रहण करने के बाद संबंधित रजिस्टर की जांच करतें सभी मामलों का संज्ञान लिया। इसके अलावा एक बाल कैदी जिसे सुनवाई के लिए बिजनौर भेजना था, उसकी फाइल को भी देखा। वन स्टॉप सेंटर जहां पर एक छत के नीचे महिलाओं की सभी तरह की समस्याओं का निराकरण किया जाता है। वहां की सेंटर मैनेजर बनी आद्या केडिया ने बताया कि यह उनके जीवन का बहुत ही यादगार पल है, जो आज उन्हें मैनेजर के रूप में मिला है। वह कोशिश करेंगी कि आज के दिन जो भी महिलाएं अपनी समस्या को लेकर आएं, उसका निराकरण कर सके। इस दौरान एक महिला ने आवेदन दिया के उसके पति के द्वारा उसे छोड़ दिया गया है। उस मामले को गंभीरता से सुनते हुए संबंधित अधिकारी को पत्र भेजकर मामले का निस्तारण करने के लिए निर्देश जारी की। इस दौरान नेहा राय, शिखा सिंह, लक्ष्मी मौर्य, गोपाल जी, सुशील वर्मा, गीता श्रीवास्तव, नीतू कुमारी, राजीव पालीवाल सहित अन्य मौजूद रहें।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें