DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शिवमंदिरों गूंजा हर-हर महादेव

सावन के प्रथम सोमवार को सभी शिव मंदिरों में हर-हर महादेव की गूंज रही। गंगा घाट से लेकर मंदिरों तक कांवरियों की लंबी लाइन लगी रही। सभी गंगा घाट भोर से स्नानार्थियों से पटे रहे। लोंगों ने गंगाजल से भगवान भोले नाथ का जलाभिषेक कर जीवन को मंगल मय होने की कामना की।

देवादिदेव महादेव को सावन माह का सोमवार बहुत ही प्रिय है। इसलिए इस दिन भगवान शंकर की पूजा करने से भोलेनाथ अपने भक्तों पर काफी खुश हो जाते हैं। इसी मान्यता को लेकर सावन माह के प्रथम सोमवार को लहुरी काशी शिवमय बना रहा। कांवरियों के महाहर धाम जाने का कार्य रविवार की शाम से ही शुरू हो गया था। सड़कों का एक हिस्सा केवल केशरिया रंग से पटा रहा। कोई अकेले बोलबम-बोलबम करते हुए चल रहा था, तो कुछ लोग झुंड बनाकर बाबा के नाम को पुकारते चल रहे थे। यही नहीं ग्रामीण क्षेत्रों व स्वयं सेवी संस्था के लोग भी समूह बनाकर नाचते गाते दर्शन पूजन के लिये पहुंचे। शिवभक्तों के जयघोष से वातावरण भक्तिमय बना रहा। भोर से सभी गंगा घाटों पर स्नानार्थियों की भीड़ लगी रही। इसमें सबसे अधिक महिलाएं रहीं। श्रद्धालुओं ने गंगा स्नान कर भगवान भोलेनाथ को दूध गंगाजल, वेलपत्र व फूल मालाओं से पूजन-अर्चन की। कई शिवमंदिरों में भक्तों की ओर से रुद्राभिषेक का आयोजन किया गया। सावन के सोमवार के चलते ही सभी शिवमंदिरों को भव्य रूप से सजाया गया था। नगर क्षेत्र बड़ा महादेवा, महुवाबाग, मिश्रबाजार, कपूरपुर सहित अन्य कई शिव मंदिरों में भोर से ही दर्शनार्थियों की भीड़ लगी रही।

सुरक्षा में लगी रही पुलिस
सावन के सोमवार को मंदिरों में होने वाले पूजन को लेकर शासन-प्रशासन काफी सचेत दिखा। इसके लिए जिन जगहों पर अधिक भीड़-भाड़ होने वाली थी, उन जगहों पर पहले से ही सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गये थे। कई जगहों पर पुलिस और पीएसी के अलावा खुफिया विभाग के जवान भी तैनात किये गये थे। एक  क्षेत्राधिकारी,5 थानाध्यक्ष,11दरोगा ,2 दीवान,81 कांस्टेबल,6 महिला सिपाही,34 होमगार्ड, एक प्लाटून पीएसी,  सीसीटीवी कैमरे,  वायरलेस सेट,से पूरे मंदिर परिसर में पैनी नजर रखी जा रही थी ।

जगह-जगह लगे थे शिविर
कांवरियों की सुविधा के लिये कई स्वयंसेवी संस्थाओं और चिकित्सा विभाग की ओर से राहत शिविर व स्टॉल लगाये गये थे। स्वयंसेवी संस्थाएं कांवरियों को चाय और पानी पिलाने में लगे रहे। चिकित्सा विभाग की टीम चिकित्सकीय सेवा के लिये तैनात थी। मरदह में चिकित्सा विभाग की ओर से मंदिर परिसर में ही शिविर लगाया गया था। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Har Har Mahadev in shiv temple