ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश गाजीपुरहरी मिर्च का भाव लुढ़कने से किसानों में निराशा

हरी मिर्च का भाव लुढ़कने से किसानों में निराशा

व्यवसायिक खेती के इस दौर में क्षेत्र के किसानों द्वारा की गई स्क्रैप हरी मिर्च का भाव लुढ़क जाने से किसानों में निराशा व्याप्त है। हालत यह है कि...

हरी मिर्च का भाव लुढ़कने से किसानों में निराशा
हिन्दुस्तान टीम,गाजीपुरWed, 29 Nov 2023 12:45 AM
ऐप पर पढ़ें

भांवरकोल, हिन्दुस्तान संवाद। व्यवसायिक खेती के इस दौर में क्षेत्र के किसानों द्वारा की गई स्क्रैप हरी मिर्च का भाव लुढ़क जाने से किसानों में निराशा व्याप्त है। हालत यह है कि स्थानीय मंडी में 10 किलो का भी कोई मिर्च का खरीदार नहीं मिल रहा है। जिसे लेकर किसान काफी हलकान हैं।
क्षेत्र के देवेंद्र प्रताप सिंह, दिवाकर राय, बरमेश्वर राय, विनोद कुशवाहा आदि किसानों ने बताया कि शुरुआती दौर में मिर्च का भाव तीन हजार से लेकर 3500 तक का भाव था। तब क्षेत्र किसानों को भरोसा था कि इस बार मिर्च की खेती से किसानों की आर्थिक दशा सुधरेगी। लेकिन भाव गिरने से हालत यह है कि स्थानीय मंडी में मोती सिर्फ का मिर्च 700 व 800 एवं पतले शिव का मिर्च 900 से लेकर 1000 कुंतल ही बिक रहा है। ऐसे में मजबूर किसान अवने पवने दाम पर अपना उत्पादन बेचने को विवस हैं। किसानों की माने तो मिर्च की तोड़ाई 6 से 7 रुपए प्रति किलो मजदूरी देनी पड़ रही है। ऐसे में मिर्च का लागत मूल्य भी निकालना काफी मुश्किल हो रहा है। किसानों का कहना कि स्थानीय मंडी में जब तक बाहर के व्यापारी नहीं आएंगे तब तक किसानों को उचित मूल्य नहीं मिल सकेगा। क्षेत्रीय किसानों ने बताया कि पतालगंगा सब्जी मंडी में स्थानीय व्यवसाई मनमाने रेट लगाकर किसानों का शोषण कर रहे हैं। कच्चा उत्पाद होने चलते किसान औने-पौने दाम में अपना उत्पादन बेचने को मजबूर हैं।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।