DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › गाजीपुर › डीएम ने रोका जल निगम के सहायक अभियंता का वेतन
गाजीपुर

डीएम ने रोका जल निगम के सहायक अभियंता का वेतन

हिन्दुस्तान टीम,गाजीपुरPublished By: Newswrap
Wed, 04 Aug 2021 03:21 AM
डीएम ने रोका जल निगम के सहायक अभियंता का वेतन

गाजीपुर। संवाददाता

जिलाधिकारी मंगला प्रसाद सिंह ने मंगलवार को रायफल क्लब सभागार में 37 बिदुओं पर होने वाले विकास कार्यों को लेकर संबंधित अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। जहां उन्होंने पंचायत भवन व सामुदायिक शौचालय निर्माण में लापरवाही बरतने वाले सचिवों को निर्माण कार्य पूरा कराने की सख्त हिदायत दी। कहा कि गुरुवार के बाद पंचायत भवन व सामुदायिक शौचालय निर्माण कार्य में जितने भी दिन का विलम्ब होगा, संबंधित सचिव का उतने दिन तक का वेतन रोका जायेगा। इस दौरान आदेश का अनुपालन न करने पर जल निगम के सहायक अभियंता का वेतन रोकने का निर्देश दिया।

जिलाधिकारी ने माह जुलाई की मासिक समीक्षा के दौरान पेयजल योजना शहरी क्षेत्र का स्थानान्तरण नगर पालिका सदर को किये जाने के लिए निर्देश दिया गया था, परन्तु जल निगम की ओर से अभी तक स्थानान्तरण न किये जाने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए उपस्थित जल निगम के सहायक अभियन्ता केएस मिश्रा का वेतन रोकने का निर्देश दिया।

उन्होंने कहा कि जिला पंचायत राज अधिकारी से पंचायत भवन व सामुदायिक शौचालय के पूर्ण और अधूरे निर्माण कार्यों की सूची उपलब्ध कराने का निर्देश दिया। साथ ही जितने भी निर्माण पूर्ण होते हैं, उसकी जीओ टैगिंग अवश्य कराया जाय। जिन-जिन ग्राम पंचायतों में बजट उपलब्ध होने के बावजूद व्यय नहीं किया जा रहा है, उसपर कार्रवाई का निर्देश दिया। उन्होंने हैण्डपम्प रीबोर के सत्यापन के सम्बन्ध में जानकारी लेते हुए निर्देश दिया कि प्रत्येक माह सचिव, रोजगार सेवक, सफाई कर्मचारियों के माध्यम से सत्यापन कराते हुए जहां-जहा हैण्डपम्प खराब स्थिति में हैं, उसे सही कराने को कहा। पीएमजेएसवाई की समीक्षा के क्रम में सहायक अभियन्ता पारसनाथ प्रजापति द्वारा प्रतिभाग न करने के कारण शासन की योजना की समीक्षा नहीं की जा सकी। इस पर नाराजगी व्यक्त करते हुए उनका एक दिन वेतन काटने का निर्देश दिया। जिला खादी ग्रामोद्योग अधिकारी के द्वारा बिना अनुमति मुख्यालय छोड़ने तथा बैठक में उपस्थित न होने के कारण वेतन काटने का निर्देश दिये। बैठक में जिलाधिकारी की ओर से नहरों में टेल तक पानी पहुंचाये जाने के सम्बन्ध में जानकारी ली तथा नहरो मे प्रत्येक दशा मे टेल तक पानी पहुचाने का निर्देश दिया, जिससे किसानो को सिचाई करने मे किसी प्रकार की असुविधा न हो। जिलाधिकारी ने समस्त सरकारी विभागो से अपेक्षा की है कि जिन-जिन विभागो के विद्युत बिल बकाया है वे विभाग विद्युत बिल का भुगतान कर दें। धनराशि उपलब्ध न होने पर पत्राचार कर बजट मंगाये। जिलाधिकारी ने जिला पूर्ति अधिकारी को निर्देश दिया कि जिन तहसीलो में अभी तक सरकारी सस्ते गल्ले की दुकानो का अवस्थापना नही हुआ है वहां जल्द से जल्द दुकानो का अवस्थापना करा लिया जाय। मुख्य पशु चिकित्साधिकारी को निर्देश दिया कि जिन जिन पशुओ का अभी तक टीकाकरण नही हुआ उन्हें टीकाकरण कराया जाय। जनपद में जितने भी निर्माणाधीन आगनवाड़ी केन्द्र है उसे जल्द से जल्द पूरा करते हुए विद्युत कनेक्शन कराने का निर्देश दिया। उन्होने उपस्थित अधिकारियों को आईजीआरएस पोर्टल पर प्राप्त शिकायतों का निस्तारण का निर्देश दिया तथा कहा कि इसमे किसी प्रकार की लापरवाही क्षम्य नही होगी। इसकी समीक्षा शासन स्तर से की जाती है। उन्होने विभागो द्वारा संचालित योजनाओ की समीक्षा के दौरान सरकार की लाभकारी योजनाओ का लाभ प्रत्येक दशा में किसानों व आमजनमानस को मिले तथा इसका प्रचार-प्रसार कराते हुए योजनाओं की जानकारी दी जाय। जिलाधिकारी ने गंगा नदी में बाढ़ के बढ़ते जल स्तर को देखते हुए सभी अधिकारियों को अलर्ट रहने का निर्देश दिया है। जब तक बाढ़ की सम्भावना है तब तक कोई भी अधिकारी बिना अनुमति जनपद छोड़कर नहीं जायेगा। जनपद में 240 स्थानों पर रेड जोन घोषित है। उन रेड जोन स्थानो पर बाढ़ चौकियां स्थापित किया जायेगा तथा बाढ़ चौकियों पर आशा, एएनएम, आंगनबाड़ी व अन्य सम्बन्धित अधिकारियों व कर्मचारियों की तैनाती की जायेगी। संबंधित अधिकारी इन क्षेत्रों खाने, पीने, दवा, पशुओं के चारा, पानी, की सम्पूर्ण व्यवस्थाएं सुनिश्चित करते हुए अलर्ट मोड में रहेंगे।

जिलाधिकारी ने चिकित्सा, समाज कल्याण, दिव्यांग, प्रोबेशन, जल निगम, बेसिक शिक्षा, विद्युत, सहकारिता, बाल विकास, सिचाई, लोक निर्माण विभाग, पंचायती राज विभाग, नगर विकास, डूडा, मनरेगा, उद्यान, कौशल विकास आदि विभागों की ओर से कराये जा रहे शासन की योजनाओं के विभिन्न कार्यों की विस्तार पूर्वक समीक्षा की। मुख्य विकास अधिकारी श्रीप्रकाश गुप्ता, जिला विकास अधिकारी भूषण कुमार, परियोजना निदेशक बाल गोविन्द, समाज कल्याण अधिकारी राम विलास यादव, डीएसओ कुमार निर्मलेन्दू, अधिशासी अभियन्ता विद्युत, अधिशासी अधिकारी नगर पलिका व अन्य जनपद स्तरीय अधिकारी उपस्थित रहे।

संबंधित खबरें