DA Image
19 जनवरी, 2021|8:18|IST

अगली स्टोरी

डीएम एसपी ने जेल में की सघन तलाशी

डीएम एसपी ने जेल में की सघन तलाशी

गाजीपुर। वरिष्ठ संवाददाता

जिला कारागार में लगातार शिकायतों और अव्यवस्थाओं के इनपुट पर जिलाधिकारी एमपी सिंह ने मंगलवार औच निरीक्षण किया। डीएम ने जिला कारागार का निरीक्षण कर बैरक व बंदियों की तलाशी करायी। साथ ही भोजनालय और साफ सफाई की व्यवस्था को देखा। जेल अधिकारियों को कोरोना से बचाव के नियमों का पालन कराने के निर्देश दिए। उनके जेल पहुंचते ही जेल प्रशासन में हड़कंप मच गया। उन्होंने बंदियों की सघन तलाशी कराई। बैरक के साथ ही जेल परिसर के मैदान को भी खंगाला। जनपद में अपराधिक घटनाओं में जेल के अलर्टनेस को लेकर यह चेकिंग की गई, हालांकि सब सामान्य मिला। बंदियों के खाने व अन्य सुविधाओं की जानकारी ली और निरीक्षण के बाद जेल प्रशासन ने राहत की सांस ली।

मंगलवार को डीएम मंगलाप्रसाद सिंह और पुलिस अधीक्षक डॉ. ओमप्रकाश सिंह ने पुलिस बल के साथ जिला कारागार में चेकिंग अभियान चलाया। दोपहर पहुंचे डीएम ने कारागार की 08 बैरकों की जेल अधिकारियों संग सघन तलाशी कराई। इस दौरान बंदियों के एक- एक सामानों की जांच पड़ताल की गई। बंदियों को चेताया गया कि प्रतिबंधित सामग्री पाये जाने पर कड़ी कार्रवाई करायी जायेगी। बैरकों की तलाश की दौरान बंदियों में खलबली मची रही। बैरकों में बंदियों से इंतजाम और दुश्वारियों के बाबत पूछताछ भी की गई। खात तौर से शातिर अपराधी जैसे बंदियों पर पैनी नजर रखी गई। जेल के अस्पताल में भी बंदी रक्षकों ने भी तलाशी अभियान में भागदीारी की। डीएम ने बंदियों को जेल नियमों के अनुसार रहने की कड़ी हिदायत दी गई। खासतौर से पेशी से लौटकर आने वाले बंदियों की कड़ी तलाशी लेने के निर्देश दिए।

क्षमता से अधिक बंदी बैरकों में ठूसे

जिला जेल में 397 बंदियों की क्षमता है, जिसके सापेक्ष 800 से अधिक कैदी मिले। जेल के अंदर आने वाले लोगों की गहन चेकिंग करने के साथ कोविड-19 को ध्यान में रखते हुए सभी को सैनिटाइज करके ही अंदर प्रवेश करने दिया गया। जेल में 30 सीसीटीवी कैमरे लगे हुए हैं। इसमें कुछ कैमरे तकनीकी दिक्कतों के चलते खराब हैं। पूरे मामले की जानकारी भी शासन को रिपोर्ट भेजकर दर्ज करा चुका है।

42 बंदी रक्षकों पर सुरक्षा का जिम्मेदारी

जनपद कारागार में सुरक्षा का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि 800 से अधिक बंदियों की सुरक्षा की कमान महज 42 बंदी रक्षकों पर संचालित है। इन्हीं के भरोसे बंदियों के निगरानी चल रही है। जबकि यहां पर बंदी रक्षकों का 68 पद स्वीकृत है। यानी 26 बंदी रक्षकों की दरकार है। जेल में चार डिप्टी जेलर होने चाहिए, जबकि तीन ही डिप्टी जेलर की तैनाती है। ऐसे में बंदियों की सुरक्षा को लेकर जेल के अधिकारी पूरे मामले को शासन से अवगत कराते रहते हैं। सुरक्षा को लेकर जेल प्रशासन हांफता रहता है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:DM SP conducted intensive search in jail