DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › गाजीपुर › सीएमओ ने विटामिन-ए की खुराक पिलाकर पोषण माह का शुभारंभ
गाजीपुर

सीएमओ ने विटामिन-ए की खुराक पिलाकर पोषण माह का शुभारंभ

हिन्दुस्तान टीम,गाजीपुरPublished By: Newswrap
Sun, 01 Aug 2021 03:13 AM
सीएमओ ने विटामिन-ए की खुराक पिलाकर पोषण माह का शुभारंभ

गाजीपुर। संवाददाता

जिले में बाल स्वास्थ्य पोषण माह का शुभारंभ प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र हाथीखाना पर मुख्य चिकित्साधिकारी डा. हरगोविंद सिंह ने शनिवार को विटामिन ए की खुराक पीलाकर किया। इस अभियान के तहत नौ माह से पांच साल तक के बच्चों को विटामिन ए की खुराक पिलाई जाएगी। मुख्य चिकित्साधिकारी डा. हरगोविंद सिंह ने बताया कि नौ माह से पांच साल तक के बच्चे जिसमें विटामिन ए की कमी की वजह से कई तरह की बीमारियों के शिकार हो जाते हैं। ऐसे ही बच्चों को बीमारियों से बचाने के लिए विटामिन ए की खुराक पिलाई जा रही है। जनपद में करीब 4 लाख 85 हजार बच्चों को विटामिन ए की खुराक पिलाए जाने का लक्ष्य रखा गया है, जिसे सभी ब्लॉक पर एएनएम, आशा व आंगनबाडी कार्यकर्ताओं द्वारा पिलाई जा रही है।

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा. उमेश कुमार ने बताया कि इस अभियान में नौ माह से पांच वर्ष तक के बच्चों के लिए विटामिन ए की संपूर्ण कार्यक्रम का आयोजन कर उन्हें विटामिन ए की खुराक पिलाई जाएगी। उन्होंने बताया कि जिले में नौ माह से 12 माह के बच्चे जिनकी संख्या 26 हजार 776 है, उन्हें आधा चम्मच, 16 माह से 24 माह के बच्चे करीब एक लाख 15 हजार हैं, उन्हें पूरी चम्मच एवं दो साल से पांच साल के बच्चे करीब तीन लाख हैं, जिन्हें पूरी चम्मच विटामिन ए की खुराक पिलाई जानी है। विटामिन-ए शरीर के लिए बहुत ही आवश्यक है। इसकी कमी से स्वास्थ्य समस्या का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए शरीर में किसी भी विटामिन की कमी नहीं होनी चाहिए। शरीर में विटामिन-ए की कमी है, हरी सब्जियां व फल आदि खाकर इसकी पूर्ति की जा सकती है। विटामिन-ए की कमी से आंखों में रतौंधी (रात में दिखाई देने में मुश्किल), आंख के सफेद हिस्से में धब्बे तथा कॉर्निया सूखना शुरू हो जाता है। इसके बाद कॉर्निया में घाव हो जाते हैं और यह अपारदर्शी हो जाता है। ठीक इलाज के अभाव में इससे स्थाई अंधापन भी हो सकता है। रात के समय चलने में लड़खड़ाना, टटोलना रतौंधी के लक्षण हैं। यह बीमारी विटामिन- ए से पूरी तरह से ठीक हो जाती है, लेकिन धब्बे इलाज के बावजूद भी बने रहते हैं। इस दौरान डा. प्रगति कुमार ,डा. एसडी वर्मा, यूनिसेफ के अजय उपाध्याय ,डीसीपीएम अनिल वर्मा, न्यूट्रिशन इंटरनेशनल की अपराजिता सिंह,अर्बन हेल्थ कोऑर्डिनेटर अशोक ,डा. इशानी वर्धन, सदर सीडीपीओ सोना सिंह सहित आंगनबाडी व आशा कार्यकत्री मौजूद रहे।

संबंधित खबरें