DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुकुलपुर उपकेन्द्र की ट्राली फुंकी, सैकड़ों गांव में अंधेरा

आकाशीय बिजली की जद में आने से सुकुलपुर उपकेन्द्र को जाने वाली लाइन ध्वस्त हो गई। 33 हजार के वी का इंसुलेटर और ट्राली ब्रस्ट हो गई। इससे शुक्लपुर सहित तीन उपकेन्द्रों को पहुंचने वाली बिजली की सप्लाई बाधित हो गई। रविवार पूरी रात इन उपकेंद्र से जुड़े सैकड़ों गांव में अंधेरा छाया रहा।

सुकुलपुर उपकेन्द्र पर आकाशीय बिजली गिरने और उपकेन्द्रों तक बिजली न पहुंचने की जानकारी बिजली कर्मचारियों ने विभागीय अफसरों को दी तो सुकुलपुर उपकेन्द्र के जेई परसुराम सैनी तथा शिवपुरा औता के जेई इन्द्रमणि परेशान हो गए। दोनों जेई बिजली फाल्ट की जानकारी एसडीओ सुशान्त शर्मा तथा अधिशासी अभियंता मनोज सिंह को दी। रविवार पूरी रात जेई और संविदाकर्मी लगे रहे लेकिन सोमवार शाम तक बिजली की आपूर्ति बहाल नहीं हो सकी। जेई ने बताया कि समोगरा गांव के पास हुए बिजली फाल्ट को पकड़ लिया गया है। शीघ्र ही बिजली आपूर्ति शुरू कराने की कोशिश की जा रही है।

रविवार सुबह से है बिजली आपूर्ति ठप

संविदाकर्मी संजीव पांडेय, आनंद कृष्ण, विजयकांत ने बताया कि रविवार सुबह ग्यारह बजे के लगभग गरज चमक के साथ बिजली कड़की जिससे एक लाख 32 हजार लाइन की लाइन में फाल्ट आ गया। समोगरा गांव के पास बिजली के तार में लगा इंसुलेटर जल गया, बिजली फाल्ट आने पर मेजारोड ओवरब्रिज के पास स्थित बड़े पावर हाउस से शुकुलपुर तक लगभग 16 किलोमीटर लाइन फाल्ट ढ़ूढने का काम शुरू हो गया, काफी कोशिश के बाद फाल्ट मिला। अब जली ट्राली को ठीक करने का कार्य शुरू हो गया, है, यदि सब कुछ ठीक ठाक रहा तो बिजली आपूर्ति हो सकेगी।

शुकुलपुर, शिवपुरा और औता उपकेंद्र की लाइन में फाल्ट

बिजली कर्मचारियों ने बताया कि बिजली फाल्ट होने से शुकुलपुर, शिवपुरा तथा औता उपकेन्द्र को पहुंचने वाली लाइन बाधित है।

बता दें कि 132 के वी बड़े बिजली घर से यमुनापार के मेजारोड, एन टी पीसी, मेजा खास, शिवपुरा, नेवढ़िया, भारतगंज सहित कुल नौ उपकेन्द्रों को लाइन दी जाती है, बिजली फाल्ट आने से रविवार को शाम तक अधिकांश उपकेन्द्रों में बिजली ठप रही, जिससे लोगों की दिनचर्या अस्त ब्यस्त रही, बिजली न होने से आधे दर्जन पेयजल समूह बंद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Sukulpur sub-center blows trolley darkness in hundreds of villages